तुम जाओ अब निश्चिंत होकर, शीघ्र ही मैं आता हूँ, दशरथ के घर जन्म ले, रावण की खोज मिटाता हूँ

0
786

TODAY EXPRESS NEWS ( REPORT BY AJAY VERMA ) विजय रामलीला के 66 वर्ष पुराने मंच पर कल किया गया श्री रामायण का ज्योत प्रचण्ड, शहर के गणमान्य लोग वहां मौजूद रहे। श्री बहादुर सिंह सबरवाल (मे० सबरवाल इलेक्ट्रॉनिक्स), डॉक्टर पी.सी. सेठ व अन्य कई इंडस्ट्रिलिस्ट द्वारा किया गया दीप प्रज्वलित जिसमे मुख्य रूप से पूर्व राम का रोल करने वाले स्वर्गीय अनुराग कुमार के पिता दर्शन लाल कुमार भी शामिल थे। अनुराग की पत्नी चांदनी व बहन सीमा कोहली को मंच पर बुला कर दिया सम्मान।  पहले दिन का पर्दा खुलते ही दिखाया गया रावण द्वारा शंकर की तपस्या जिस से हासिल हुई उसे चन्द्रहास नामक तलवार, फिर एक सुंदर स्त्री वेदवती से के साथ गलत प्रयास करता है जिस पर वह रुष्ट हो कर उसे श्राप देती है। इसके बाद अगले दृश्य मे दशरथ द्वारा अनजाने मे हुआ अन्धराज के पुत्र श्रवण कुमार का वध जिस पर दुखी अन्धराज ने दशरथ को पुत्र वियोग में प्राण त्यागने का श्राप दिया और अंत मे धरती माता रावण के अत्याचारों से द्रवित होकर पुहंची नारायण के पास ओर विष्णु ने उन्हें वचन दिया कि वह अयोध्या के राजा दशरथ के घर जन्म लेकर रावण का कोप मिटायेंगे। इसी के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ। आज होगा भगवान राम का जन्म और राक्षसी तड़का का वध। शंकर की भूमिका निभाई जातीं भाटिया ने, रावण टेक चन्द नागपाल रहे, दशरथ बने अजय सागर, श्रवण की भूमिका निर्देशक के बेटे अमन ने निभाई, वेदवती बने जितेश अहूजा और विष्णु की भूमिका में कमेटी के महसचिव सौरभ कुमार ने अदा की।

CONTACT : AJAY VERMA 9953753769 , 9716316892

EMAIL : faridabadrepoter@gmail.com

LEAVE A REPLY