नोकिया और डिजिटल एम्पावरमेंट फाउंडेशन ने डिजिटल हब का नुह खंड के गांव टाई में किया उद्घाटन

0
166

TODAY EXPRESS NEWS (बिलाल अहमद) देश का सबसे पिछड़ा जिला नूंह  के दस गांवों की सूरत बदलने के लिए नोकिया और डिजिटल एम्पावरमेंट फाउंडेशन के अधिकारियों ने बुधवार को टाई गांव से डिजिटल विलेज प्रोजेक्ट स्मार्टपुर की शुरुआत की। कार्यक्रम की शोभा बढ़ाने के लिए फिनलैंड की राजदूत नीना वासकुंलहती ने मुख्यातिथि के रूप में शिरकत की। इसके अलावा नोकिया के सीईओ संजय मलिक व डी.ईएफ.  के डायरेक्टर व फाउंडर ओसामा मंजर के अलावा कई जानी – मानी हस्तियों ने भाग लिया। टाई गांव में स्मार्टपुर योजना का डिजिटल हब बनाया गया है। शुरुआत में नोकिया – डीईएफ के संयुक्त प्रयासों ने दस गांव स्मार्टपुर योजना के लिए चुने गए हैं। जिनमें टाई , मालब , सलम्बा , आकेड़ा , अडबर , नोसेरा , रायपुरी , खेड़ला , मेवली , सुडाका को शामिल किया गया है। मोबाइल और इंटरनेट की दुनिया का जाना पहचाना नाम नोकिया का दावा है कि अगले 3 -4 वर्षों में तक़रीबन 500 गांवों की सूरत बदलने का काम किया जायेगा। परियोजना में शिक्षा , स्वास्थ्य , वित्त , इंटरटेनमेंट , लाइवलीहुड , गवर्नेंस के क्षेत्र में काम किया जायेगा। टाई गांव में बुधवार को उदघाटन के दिन ऐसे बच्चों को लैपटॉप और कम्प्यूटर चलाने का तथा गेम खेलना का मौका मिला , जो उन्होंने कभी सोचा भी नहीं था। आर्थिक तंगी के कारण जो बच्चे मोबाइल फ़ोन तक नहीं ले पा रहे थे , उन्हें अब इंटरनेट और सभी सुविधाओं से लैस डिटिजल हब में लेपटॉप इत्यादि चलाने का अवसर प्रदान होगा। बुधवार को टाई गांव में कार्यक्रम की शुरुआत करते समय फिनलैंड की राजदूत नीना से लेकर नोकिया के इंडिया सीईओ संजय मलिक व उनकी टीम बेहद उत्साहित नजर आ रही थी। देश में इंटरनेट को 20 साल पहले शुरू करने वाले अमिताभ ने पत्रकारों को बताया कि वे बेहद उत्साहित हैं कि शहरों के बच्चों की तर्ज पर अब इंटरनेट का इस्तेमाल गांव के बच्चे भी करेंगे। दो दशकों में इंटरनेट और डिजिटल को लेकर बहुत बदलाव आया है। अभी और भी तेजी इस काम में आएगी। उनका प्रयास है कि अंतिम व्यक्ति तक इंटरनेट का इस्तेमाल हो। अमिताभ के मुताबिक शुरुआत में इंटरनेट को लेकर एक भ्रम था , जो अब लगभग खत्म हो चुका है। हर व्यक्ति अब इंटरनेट का इस्तेमाल करना चाहता है। गांव के सरपंच फकरुद्दीन ने इस परियोजना के शुरू होने पर बेहद ख़ुशी जताई , साथ ही फिनलैंड की राजदूत नीना वासकूनलहती, नोकिया सीईओ संजय मलिक और डिजिटल एम्पावरमेंट फाउंडेशन के डायरेक्टर व फाउंडर ओसामा मंजर से टाई गांव में डिजिटल यूनिवर्सिटी की मांग कर डाली फखरुद्दीन का कहना है कि गांव व जिले के युवाओ के लिए हम कोसिस कर रहे है और हमे उम्मीद भी है कि सभी के लिए जो यूनिवर्सिटी बने उससे मेवात का देश ही नही दुनिया मे नाम हो क्योंकि अभी तक डिजिटल यूनिवर्सिटी है भी नही जबकि पिछले कई साल से जबसे ये सरकार आई है उस समय से डिजिटल वर्क ने बहुत तेजी पकड़ी है जिसके कारण अब डिजिटल यूनिवर्सिटी की जरूरत महसूस हो चुकी है और इस समय अगर ये हमारे यहाँ बन जाती है तो यहाँ से पासआउट होने वाले युवा नोकरी के लिए इधर उधर नही भागेंगे  । कुल मिलाकर दिल्ली से महज 70 किलोमीटर दूर बसे सूबे के सबसे पिछड़े जिला मेवात पर देश – दुनिया की बड़ी कंपनियों की नजर पड़ने लगी है। अगर सपना साकार हुआ तो स्मार्टपुर योजना से जिले के गांव भी और लोग भी स्मार्ट जरूर दिखने लगेंगे। नोकिया और डी ई एफ की कोसिस होगी कि गांव का आदम गांव में ही सभी सुविधाओं का फायदा उठाये यानी उसे सब कुछ बाजार की जगह घर के नजदीक उपलब्ध हो, खास बात यह है कि अब लोगों को रेल टिकट , हवाई टिकट, पेंशन, राशन कार्ड, पैन कार्ड , आधार कार्ड , पासपोर्ट जैसे कार्यों के साथ – साथ सरकारी नौकरी के लिए आवेदन करने के लिए दूरदराज नहीं जाना पड़ेगा। धन और समय की बचत होगी। किसानों को कृषि और मौसम के बारे जानकारी निशुल्क मिल सकेगी। इस अवसर पर मनीषा सिंह , उदिता , मो. आरिफ टाई स्मार्टपुर प्रोजेक्ट सलाहाकार, फकरुद्दीन सरपंच टाई, रमजान चौधरी एडवोकेट व समाजसेवी , जाहिद हुसैन पूर्व चैयरमैन , दीन मोहमद मामलिका समाजसेवी , स्मार्टपुर कोऑर्डिनेटर समर खान , जक्की सलम्बा , जल विभाग नरेंद्र भारद्वाज , अतिरिक्त उपायुक्त  आफिस नुह गोविंद , शाहिद सलम्बा इत्यादि गणमान्य लोग मौजूद थे।


CONTACT : AJAY VERMA – 9716316892 – 9953753769
EMAIL : todayexpressnews24x7@gmail.com , faridabadrepoter@gmail.com

LEAVE A REPLY