FARIDABAD – केबिनेट मंत्री विपुल गोयल और केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने प्रोजेक्ट पंछी की – कि शुरुआत – पर्यावरण और पंछियो को बचाने के लिए किया गया आवाहन – मुफ्त में वितरित किये गए पक्षियों के लिए वाटर हैंगिंग पॉट और घोसले !!!

0
578
??????????

TODAY EXPRESS NEWS FARIDABAD ( रिपोर्ट अजय वर्मा ) फरीदाबाद में आज कैबिनेटमंत्री विपुल गोयल द्वारा नवचेतना ट्रस्ट के सौजन्य से पक्षियों को बचाने के लिए प्रोजेक्ट पंछी की शुरुआत की गयी. जिसमे केंद्रीय मंत्री मैनका गांधी मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुई और पर्यावरण के प्रति लोगो को जागरूक किया। इस मौके पर उनका उद्योगमंत्री और विधायकों के अलावा प्रशासनिक अधिकारियों ने उन्हें बुके भेंट करके उनका स्वागत किया। इस अनूठे अभियान की शुरुआत को देखने के लिए शहर के हजारो लोग पहुंचे। इस अवसर पर लोगो को मुफ्त में वाटर हैंगिंग पॉट और घोसले भी दिए गए ताकि लोग अपने घरो की बालकोनी में उन्हें टांग कर पक्षियों के लिए पानी दाने और रहने की सुविधा उपलब्ध करवा सके ताकि पक्षियों की घट रही संख्या पर रोक लग सके. 

फरीदाबाद के नगर निगम आडिटोरियम में आज कैबिनेटमंत्री विपुल गोयल द्वारा नवचेतना ट्रस्ट के सौजन्य से पक्षियों को बचाने के लिए प्रोजेक्ट पंछी की शुरुआत की गयी. जिसमे केंद्रीय मंत्री मैनका गांधी मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुई और पर्यावरण के प्रति लोगो को जागरूक किया। इस कार्यक्रम में शहर के हजारो लोग शामिल हुए और आडिटोरियम खचाखच भर गया. इस अवसर पर जिन लोगो ने रजिस्ट्रेशन करवाया था उन्हें मुफ्त में वाटर हैंगिंग पॉट और घोसले भी दिए गए ताकि लोग अपने घरो की बालकोनी में उन्हें टांग कर पक्षियों के लिए पानी दाने और रहने की सुविधा उपलब्ध करवा सके ताकि पक्षियों की घट रही संख्या पर रोक लग सके.

पत्रकारों से बातचीत करते हुए केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने कहा की फरीदाबाद पहला शहर है जिसने प्रोजेक्ट पंछी की शुरुआत की है. उन्होंने इस प्रोजेक्ट को शुरू करने पर अपनी शुभकामनाये दी. उन्होंने कहा की अगर यह प्रोजेक्ट सफल होता है तो फरीदाबाद में ही हजारो पंछियो को बचाया जा सकता है. मोबाइल रेडिएशन के चलते पक्षियों की कम हो रही संख्या के जवाब में उन्होंने कहा की यह सच है की रेडिएशन से पंछियो की संख्या कम हो रही है लेकिन मोबाइल भी ज़रूरी है इसलिए लोग जायदा से जायदा पेड़ लगाए। जिससे रेडिएशन का असर कम होगा और पक्षियों की संख्या बढ़ेगी। उन्होंने कहा की प्रशासन छोटे तालाबों का निर्माण करे और हर कालोनी में कम से कम दो फारेस्ट डिवेलप करे तो पंछियो की संख्या में इजाफा होगा। उन्होंने पेड़ बचाओ के ऊपर अपने विचार रखते हुए कहा की दाह संस्कार में सैकड़ो किलो लकड़ी जला दी जाती है ऐसे में दिल्ली और अन्य कई जगहों पर गोबर और समाग्री युक्त लाग्स बनाये जा रहे है जिससे लकड़ी की बचत होगी और पेड़ भी नहीं कटेंगे। उन्होंने कहा की गौ शालाओ में गोबर वेस्ट होता है और यदि गोबर के लाग्स बनाकर बेचे जाए तो गौ शालाओ को आमदन होगी जिससे पैसा तो बचेगा ही गाय भी बचेगी। उन्होंने वन विभाग को  आड़े हाथ लेते हुए कहा की पर्यावरण को बचाने के लिए कानून तो सख्त बने हुए है लेकिन वन विभाग की लापरवाही और कमजोरी के चलते पेड़ काटे जा रहे है.

वहीँ इस प्रोजेक्ट की शुरुआत पर केबिनेट मंत्री विपुल गोयल ने ख़ुशी व्यक्त करते हुए कहा की प्रोजेक्ट पंछी नवचेतना ट्रस्ट के माध्यम से लांच किया गया है जिसमे केंद्रीय मंत्री मेनका गाँधी मुख्य अतिथि के रूप में यहाँ आयी थी और उन्होंने बताया की पक्षियों की रक्षा कैसे की  जा सकती है और उनके लिए दाना पानी की व्यस्वस्था कैसे की जानी चाहिए। उन्होंने उम्मीद जाहिर की – कि यह मुहीम प्रदेश और देश में आगे जायेगी। उन्होंने साफ़ किया की यह कोई राजनितिक मुहीम नहीं बल्कि मानवता और पर्यावरण की मुहीम है. उन्होंने कहा की मेनका गणाधी द्वारा दिए गए तमाम सुझावों पर काम किया जाएगा। इसके साथ साथ उन्होंने कहा की पांच जून पर्यावरण दिवस के दिन प्रदेश में ढाई करोड़ पौधे लगाए जाने की मुहीम शुरू की जायेगी और यह मुहीम पांच जून से 30 अक्टूबर तक चलेगी और इसी समस्य के दौरान प्रदेश में ढाई करोड़ पौधे लगाए जाएंगे। उन्होंने कहा की एक पौधा एक हरियाणवी के नाम से हमने संकल्प किया है. उन्होंने लोगो से अपील की – कि जिस तरह हम अपने लिए खाने – पानी का इंतजाम करते है वैसे ही वह पक्षियों के लिए इंतजाम करे और पक्षियों को बचाये।

वहीँ  इस मौके पर लोगो को मुफ्त में वाटर हैंगिंग पॉट और घोसले वितरित किये गए जिसमे स्कूली छात्राओं की संख्या जायदा देखी गयी छात्राओं का कहना था की यहाँ से मिले वाटर हैंगिंग पॉट को वह अपने घरो में लगाएंगी और पक्षियों को पानी और दाना नियमित उपलब्ध करवाएंगी।

LEAVE A REPLY