एगनेक्स्ट टेक्नोलॉजीज की नैफेड के साथ साझेदारी

0
551

टुडे एक्सप्रेस न्यूज़ । अजय वर्मा । नयी दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): प्रमुख एग्रीटेक कंपनी एगनेक्‍स्‍ट टेक्‍नोलॉजीज़ ने अपनी तरह की अनूठी पहल में अरुणाचल प्रदेश की ऑर्गेनिक कीवी के लिए क्वॉलिटी मूल्यांकन को डिजिटाइज़ करने के लिए नैफेड के साथ साझेदारी की है। राष्ट्रीय स्तर पर “वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोग्राम” योजना के तहत अरुणाचल प्रदेश कृषि मार्केटिंग बोर्ड (ए.पी.ए.एम.बी) ने अपने मार्केटिंग पार्टनर नैफेड के सहयोग से इन ऑर्गेनिक कीवी को नई दिल्ली में लॉन्च किया है। भारत में पहली बार ऑर्गेनिक कीवी की गुणवत्ता का तेजी से मूल्यांकन करने के लिए एआई बेस्ड टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जा रहा है। एगनेक्‍स्‍ट ने अपने क्वॉलिटी मॉनीटरिंग प्लेटफॉर्म, “क्वॉलिक्स” के माध्‍यम से डीप-टेक पर आधारित संपूर्ण अनुरेखण (ट्रेसेबिलिटी) प्रदान करने में सक्षम बनाया है। क्यू.आर. कोड मैपिंग का इस्‍तेमाल कर उपभोक्ता ओरिजन से लेकर सप्लाई चेन में सभी प्रक्रिया का पता लगा सकते हैं।

कंपनी के सीईओ एवं संस्थापक तरणजीत सिंह भामरा ने कहा, “अरुणाचल के लोकप्रिय कीवी व्यापार के लिए संपूर्ण क्वॉलिटी और अनुरेखण प्रबंधन का समाधान प्रदान करने के लिए नैफेड के साथ काम करना काफी सम्मान की बात है। अभी तक 6000 किलोग्राम से ज्यादा कीवी का क्वॉलिक्स प्लेटफॉर्म पर मूल्यांकन किया गया है। यह किसानों, नैफेड और हमारे उपभोक्ताओं के लिए बहुत सारे लाभ लेकर आया है। कीवी के लिए गुणवत्‍ता आधारित एवं अनुरेखण में सक्षम व्‍यापार को बढ़ावा देने का असर न सिर्फ घरेलू मांग को बेहतर बनाएगा बल्कि फल की निर्यात क्षमता को बढ़ाने में भी मदद करेगा।”

नैफेड के अतिरिक्त प्रबंध निदेशक (ए.एम.डी.) पंकज प्रसाद ने बताया, “नैफेड ने अरुणाचल प्रदेश के ज़ीरो में एफ.पी.ओ के साथ सफलतापूर्वक साझेदारी की है, जिससे उन्हें अपने सर्टिफाइड आर्गेनिक कीवी के लिए बेहतर मार्केट लिंक बनाने में मदद मिली। डिजिटल गुणवत्ता का मूल्यांकन, फल की निरीक्षण प्रक्रिया को सुव्यवस्थित बनाने में मदद करता है। इससे उपभोक्ताओं को पूर्ण ट्रेसेबिलिटी रिपोर्ट मिलती है और किसानों व उपभोक्ताओं को मजबूती मिलती है। इसके नतीजे के तौर पर हमें बेहतर दाम मिलता है। इससे वैल्यूचेन में सभी भागीदारों के बीच बेहतर विश्वास और पारदर्शिता बनती है। भारतीय कृषि की क्षमता को सही मायने में सशक्त बनाने, किसानों की आमदनी बढ़ाने और गुणवत्ता पर आधारित व्यापार को सक्षम बनाने के लिए टेक्नोलॉजी को अपनाने में बढ़ोतरी बेहद आवश्यक है।”

LEAVE A REPLY