वृंदावन में फरीदाबाद की नेत्रहीन-मुस्लिम बच्चियों ने किया सस्वर गीता पाठ

0
558

TODAY EXPRESS NEWS ( REPORT BY AJAY VERMA ) वृंदावन। यहां हरियाणा युवा रेडक्रॉस प्रशिक्षण शिविर में आज नेत्रहीन एवं मुस्लिम बच्चियों ने सस्वर गीता पाठ श्रोताओं को अभिभूत कर दिया। जब इन बच्चियों ने गीता पाठ शुरू किया तो सभागार में निशब्दता छा गई और सभी उपस्थित प्रतिभागी छात्राएं और दर्शक दत्तचित्त होकर कोकिलकंठों के नैसर्गिक नाद का रसपान करने लगे।

यहां गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद जी महाराज के परिक्रमा मार्ग स्थित श्री कृष्ण कृपा धाम आश्रम में युवा रेडक्रॉस प्रशिक्षण शिविर के द्वितीय दिवस पर नेशनल एसोसिएशन फॉर द ब्लाइंड की फरीदाबाद शाखा के लगभग दो दर्जन नेत्रहीन छात्र-छात्राएं भाग लेने आए।

सुबह के सत्र में इन बच्चियों ने नेशनल एसोसिएशन फॉर द ब्लाइंड की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं रेड क्रॉस की एग्जीक्यूटिव मेंबर सुषमा गुप्ता संग गीता पाठ किया और राधारानी सरकार एवं बांके बिहारी लाल के सुंदर मनोहारी भजनों से श्रोताओं को अभिभूत कर दिया।

साजिदा और शशि ने जब ‘श्री राधा रानी दे दो न बासुरी मेरी’ भजन सुनाया, तो सभी बच्चे तालियों की ताल संग झूमने लगे।

गीता पाठ करने वाली साजिदा, राफिया, सीमा और मुमताज ने मीडिया को बताया कि हम नेत्रहीनों की दुनिया में हिंदू या मुसलमान नहीं होता। हममें कभी भी किसी को कोई कष्ट होता है, तो एक खटके की आवाज पर सभी भाई-बहन सतर्क हो जाते हैं और एक दूसरे की मदद करने लगते हैं। हमें यह सुनकर ताज्जुब होता है कि लोग धर्म, जाति और संप्रदाय के नाम पर झगड़ते हैं।

साजिदा और राफिया ने कहा कि गीता के धार्मिक महत्व से ज्यादा श्लोकों में आबद्ध जीवन पद्धति के सूत्र महत्वपूर्ण हैं। इन श्लोकों के ज्ञान से कोई भी व्यक्ति अपनी जिंदगी को खूबसूरत बना सकता है। जिसको भी जो पसंद हो, वह गीता से उस ज्ञान को चुन ले और अपनी जिंदगी को सार्थक बना ले। गीता सिर्फ धार्मिक ग्रंथ ही नहीं बल्कि जीवनोपयोगी ग्रंथ भी है। इसलिए हम सभी ब्रेल लिपि की गीता पढ़ते हैं। कुछ को गीता कंठस्थ है और बाकी गीता को कंठस्थ करने की कोशिश कर रहे हैं।

नेशनल एसोसिएशन फॉर द ब्लाइंड की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं रेड क्रॉस की एग्जीक्यूटिव मेंबर सुषमा गुप्ता ने बताया कि इस एसोसिएशन और रेडक्रॉस के सभी सदस्य छात्र-छात्राएं आपसी सामंजस्य से दिए गए कार्यों को संपादित करते हैं। वह महसूस करती हैं कि बच्चों के बीच जाति और धर्म का भेद लेशमात्र भी नहीं है। वह चाहती हैं कि भविष्य में भी ये सभी बच्चे जाति और धर्म से ऊपर उठकर सच्चे भारतीय नागरिक बनें और राष्ट्र के विकास और उन्नति में अपना योगदान दें।

युवा रेडक्रॉस प्रशिक्षण शिविर में इससे पहले आज सुबह फ्लैग होस्टिंग के बाद योग और ध्यान शिविर आयोजित किया गया। इसके बाद स्वामी वासुदेव महाराज, हरियाणा रेडक्रॉस के वाइस चेयरमैन डॉक्टर मुकेश कौशिक, प्रांतीय महासचिव डीआर शर्मा, हरियाणा के चीफ टाउन प्लानर एससी कुश, फरीदाबाद रोटरी क्लब ईस्ट के प्रधान तरुण गुप्ता, सामाजिक कार्यकर्ता प्रमोद गुप्ता, शिविर निदेशक रोहित शर्मा, ब्लाइंड एसोसिएसन के महासचिव हेमचंद यादव, पुरुषोत्तम सैनी, राजा सिंह झिंझर, टेकचंद यादव आदि विशेषज्ञों ने रेडक्रास स्वयंसेवकों को समाज कल्याण एवं जिला रेड क्रॉस सोसाइटी की शाखाओं में सदस्यों की भूमिका, शारीरिक अंग दान, रक्तदान, नेत्रदान, आपदा राहत प्रबंधन, प्राथमिक चिकित्सा, रेडक्रास सोसायटी के कार्य, राष्ट्रीय एकता, रेड क्रॉस सदस्यों की जिम्मेदारी और कर्तव्य आदि विषयों पर विस्तार से प्रकाश डाला।

इसके अलावा शनिवार की देर शाम बृज रसिक श्री चंदन जी महाराज की टीम द्वारा रासलीला का भव्य आयोजन किया गया। जिसमें राधारानी संग मयूर बिहारी ने नृत्य किया। माखन चोरी और मटकी फोड़ने की लीलाएं भी आयोजित की गई। सभी प्रतिभागी रासलीला के विभिन्न नयनाभिराम दृश्यों में मगन होकर भगवान् कृष्ण की बाल लीलाओं का अवलोकन करते रहे।

 

CONTACT : AJAY VERMA 9953753769 , 9716316892

EMAIL : faridabadrepoter@gmail.com

LEAVE A REPLY