पाँच दिवसीय प्रेरणा विमर्श – 2022, मीडिया कॉन्क्लेव एवं फिल्म फेस्टिवल का हुआ शुभारम्भ

0
498

टुडे एक्सप्रेस न्यूज़। रिपोर्ट अजय वर्मा । नोएडा। प्रेरणा शोध संस्थान न्यास, प्रेरणा जन सेवा न्यास और केशव सम्वाद पत्रिका की ओर से नोएडा के सेक्टर-12 स्थित सरस्वती शिशु मन्दिर में पाँच दिवसीय प्रेरणा विमर्श – 2022, मीडिया कॉन्क्लेव एवं फिल्म फेस्टिवल का बुधवार को शुभारम्भ हुआ। पाँच दिवसीय यह कार्यक्रम 09 नवम्बर से 13 नवम्बर तक चलेगा।

कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्वलन कर माँ भारती के चरणों पर पुष्प अर्पित कर किया गया। इस दौरान भविष्य का भारत थीम पर आधारित प्रदर्शनी का उद्घाटन भी किया गया।
कार्यक्रम के उद्घाटन समारोह को सम्बोधित करते हुए मुख्य वक्ता प्रसार भारती के सीईओ श्री मयंक अग्रवाल जी ने कहा कि हमारे माता-पिता ने अपने समय की परिस्थिति के अनुसार सपने देखें और उन्हें साकार किया। हमारे समय में हम वर्तमान परिस्थिति के अनुसार जो सपने देखते हैं वहीं सपने साकार होंगे। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री कोई भारतीय मूल का व्यक्ति बनेगा यह किसने सोचा था। क्या किसी ने सोचा था कि यूनेस्को योग दिवस को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता देगा। पर ऐसा हुआ।
उन्होंने कहा कि जब तक हम अपने अतीत के प्रति गौरव के भाव से नहीं भरेंगे, अपनी परंपराओं और संस्कारों को साथ लेकर नहीं चलेंगे तब तक हमारा विकास नहीं होगा। उन्होंने कहा कि भारत की संस्कृति वसुधैव कुटुम्बकम की रही है। इसीलिए भारत ने कभी किसी पर हमला नहीं किया।
कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि, आरएसएस के अखिल भारतीय प्रचार विभाग टोली के सदस्य श्री राजीव तुली जी ने कहा कि भविष्य के भारत के प्रति हम सब लोग आशान्वित हैं। भविष्य का भारत कैसा होगा, हम चाहेंगे वैसा होगा।
देश का विभाजन अप्राकृतिक था। वर्ष 1947 के समय देश में 3 विचारधाराएं थी। पहली थी, भारत एक प्राचीन राष्ट्र है, दूसरी भारत राष्ट्रों का एक समुदाय है। तीसरी थी भारत एक राष्ट्र बनने की प्रक्रिया में है। भारत में छोटे से वर्ग में एक समुदाय ऐसा भी था जो भारत की अस्मिता के लिए संघर्ष करता रहा। जिनका सोचना था कि भारत खण्डित नहीं रह सकता है, इसका विभाजन अप्राकृतिक है। भविष्य का भारत अपने अखण्ड स्वरूप को जरूर प्राप्त करेगा। जो स्वावलंबी भारत होगा, सम्पूर्ण विश्व को दिशा देने वाला भारत होगा।
उन्होंने कहा कि भारत की अस्मिता के लिए काम करने वाले लोगों के प्रयास से यह भारत शीघ्र ही अखण्ड भारत के स्वरूप में होगा।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री कपिल देव अग्रवाल जी (व्यावसायिक शिक्षा और कौशल विकाश राज्य मंत्री उत्तर प्रदेश सरकार) ने कहा कि हमारे लिए यह गर्व की बात है कि आज मैं इस कार्यक्रम का हिस्सा हूँ।
इस दौरान उन्होंने कहा कि देश को अगर भविष्य का भारत बनाना है तो हमें आने वाले पीढ़ियो को अच्छी प्रेरणा देंनी होगी। तभी भविष्य का भारत सुन्दर होगा। देश के बच्चों में सांस्कृतिक, विकास के लिए स्वयंसेवकों ने सरस्वती शिशु मन्दिर की स्थापना की है। जहाँ बच्चों को भारतीय सभ्यता, संस्कृति और इतिहास के बारे में जानकारी दी जाती है। जिससे बच्चों में सम्पूर्ण व्यक्तित्व का विकास होता है। इस दौरान उन्होंने देश में वेश-भूषा, खान-पान रहन-सहन से समाज में फैल रही विकृति पर चर्चा की। साथ ही समाज में फैलते जातिवाद और वैमनस्य पर भी चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि देश के विकास के लिए सबको साथ मिलकर काम करना होगा।
कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ. कल्पना सैनी जी (सदस्य राज्यसभा) जी ने की। इस दौरान उन्होंने कहा कि राष्ट्र का चिंतन करने वाले कुछ समर्पित लोगों के द्वारा वर्ष 1925 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना हुई। उसी संगठन की विचारधारा वाले लोगों ने वर्ष 2014 में भारत की सत्ता संभाली और भारत को विश्व गुरुत्व की ओर अग्रसर किया है। उन्होंने कहा कि वह दिन दूर नहीं जब भारत पूर्णतया विकसित और आत्मनिर्भर होगा।
अन्त में प्रेरणा न्यास की उपाध्यक्ष श्रीमती विधि दादू जी के द्वारा धन्यवाद ज्ञापन किया गया।
कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ. कल्पना सैनी जी (सदस्य राज्यसभा) ने की, मुख्य अतिथि के रूप में श्री कपिल देव अग्रवाल जी (व्यावसायिक शिक्षा और कौशल विकाश राज्य मंत्री उत्तर प्रदेश सरकार), मुख्य वक्ता के रूप में श्री मयंक अग्रवाल जी (सीईओ, प्रसार भारती), विशिष्ट अतिथि के रूप में श्री राजीव तुली जी (सदस्य, अखिल भारतीय टोली प्रचार विभाग, राष्ट्रीय स्वंसेवक संघ) उपस्थित रहे।
इसके साथ ही कार्यक्रम में श्रीकृपाशंकर जी (प्रचार प्रमुख, उत्तर प्रदेश और उत्तराखण्ड), श्रीमान सत्येंद्र जी (नगर संघचालक), श्रीमान अंणज त्यागी जी (संरक्षक, प्रेरणा विमर्श – 2022) श्रीमति प्रीति दादू जी (अध्यक्ष, प्रेरणा विमर्श – 2022), अनिल त्यागी जी (संयोजक, प्रेरणा विमर्श – 2022) सहित अन्य गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

उल्लेखनीय है कि कार्यक्रम का शुभारम्भ 09 नवम्बर को “भविष्य के भारत” विषय पर आयोजित प्रदर्शनी के उद्घाटन के साथ हुआ। 10 नवम्बर को पत्रकारिता के छात्र एवं शिक्षकों के लिए छात्र एवं शिक्षक विमर्श कार्यशाला का आयोजन होगा। 11 नवम्बर को पत्रकार एवं लेखक विर्मश कार्यशाला, 12 नवम्बर को सोशल मीडिया विमर्श कार्यशाला और 13 नवम्बर को लघु फिल्म एवं वृत्त-चित्र प्रदर्शन के साथ ही केशव सम्वाद पत्रिका विमोचन एवं पुरस्कार वितरण कार्यक्रम का आयोजन भी होगा।

LEAVE A REPLY