स्वाईन फ्लू से युवक की मौत – फोर्टिज हस्पताल पर परिजनों ने लगाया वरगलाने का आरोप

0
318

TODAY EXPRESS NEWS : दिल्ली से सटे फरीदाबाद में स्वाइन फ्लू का कहर बढ़ता जा रहा है जिसके चलते स्वाइन फ्लू से मौत का दुसरा मामला सामने आया है। स्वाइन फ्लू से दूसरी मौत सैक्टर 55 निवासी 26 वर्षीय आकाश जवने की हुई ,इससे दो महीने पहले भी फरीदाबाद के पॉश इलाके सैक्टर 15 निवासी चंद्रप्रकाश की स्वाइन फ्लू से मौत हो चुकी है। फरीदाबाद में अबतक स्वाइन फ्लू के 24 मामलो की पुष्टि हो हुई  है। 

तस्वीरो में दिखाई दे रहा यह 26 वर्षीय आकाश जवने है जिसकी स्वाइन फ्लू की चपेट में आने से मौत हुई है। आकाश के परिवार की माने तो उसे हलकी खासी जुकाम था जिसके चलते उसे वह फरीदाबाद के फोर्टिज अस्पताल में जाँच के लिए लेकर गए थे लेकिन वहां डाक्टरों ने आकाश को देख कर भर्ती करने के लिए कहा जिसके बाद उन्होंने आकाश को अस्पताल में भर्ती करा दिया। इलाज के दौरान डाक्टरों ने आकाश की स्वाइन फ्लू की जांच करवाई जिसमे स्वाइन फ्लू की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। लेकिन डाक्टर उन्हें यही तसल्ली देते रहे की वह ठीक हो जायेगा और इलाज के नाम पर फोर्टिज अस्पताल ने उनसे मोटी रकम भी वसूल ली, उन्होंने आकाश को आखरी समय तक वेल्टीनेटर पर रखा और आखिर उन्होंने आकाश को मृत घोषित कर दिया। आकाश के परिवार की माने तो आकाश की मौत फोर्टिज अस्पताल की लापरवाही के चलते हुई है उन्होंने एक बार भी नहीं बताया की आकाश पहले ही मर चूका था लेकिन अस्पताल ने मोटा बिल बनाने के लिए उन्हें बार बार कहा की उसकी सेहत में इम्प्रूवमेंट आ रही जबकि आकाश पहले ही मर चुका  था. हालांकि आकाश में ग़मगीन परिजनों ने हस्पताल के खिलाफ मामला दर्ज नहीं करवाया लेकिन वह चाहते है की ऐसे लालची अस्पताल बंद होने चाहिए और उनके खिलाफ सख्य से सख्त कारवाही होनी चाहिए। 
 
वही स्वास्थ विभाग के अधिकारी की माने तो उन्हें आकाश जवने की स्वाइन फ्लू से मौत होने की जानकारी मिली है जिसके चलते वह यहाँ पर आये है। आकाश जवने का निजी अस्पताल में इलाज चल रहा था। उसकी रिपोर्ट देखने पर पता चला है की आकाश को स्वाइन फ्लू था। जिसके चलते उन्होंने आकाश के परिवार को एहतियात बरतने के लिए कहा है और उन्हें स्वाइन फ्लू की दवाईयां दी है तथा उन्हें अस्पताल में आकर जांच कराने के लिए भी कहा है। स्वाइन फ्लू के लक्षण होने पर घबराये नहीं इसका प्रॉपर इलाज करवाएं। 
हालांकि मृतक आकाश के परिजनों ने अस्पताल पर गंभीर आरोप लगाए है की मोटा बिल बनाने के चक्कर में उन्होंने आकाश को मरे हुए होने के बावजूद वेंटिलेटर पर रखा लेकिन उन्होंने इसके बावजूद उन्होंने हस्पताल के खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं करवाया। वहीँ टुडे एक्स्प्रेस न्यूज़ में खबर परिजनों के बयान के अनुसार ही लिखी गयी है जिसमे आरोप की पुष्टि हम नहीं करते क्योंकि परिजनों ने कोई भी ऑफिशियल कानूनी कार्यवाही हस्पताल के खिलाफ नहीं की है. लेकिन हस्पताल के खिलाफ इस तरह के बयान आना पहली बार नहीं है इससे पहले भी लापरवाही की वजह से मौत की खबरे भी आती रही है. 

CONTACT : AJAY VERMA 9953753769 , 9716316892

EMAIL : faridabadrepoter@gmail.com

LEAVE A REPLY