FARIDABAD : – दीप प्रज्ज्वलित कर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने किया सूरजकुंड में तीन दिवसीय द्धितीय कृषि नेतृत्व शिखर सम्मेलन का उद्घाटन।

0
321
FARIDABAD : सूरजकुंड में हस्तशिल्प मेले के बाद पहली बार मेला परिसर में तीन  दिवसीय द्धितीय कृषि नेतृत्व शिखर सम्मेलन आयोजित किया गया, जिसमें मुख्यअतिथि के रूप में पहुंचे गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने दीप प्रज्ज्वलित कर कृषि सम्मेलन का उद्घाटन किया, सम्मेलन में 1 लाख से ज्यादा किसान हिस्सा ले रहे हैं। गृहमंत्री राजनाथ के साथ इस अवसर पर हरियाणा के कृषि मंत्री ओपी धनखड, केन्द्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर, सीपीएस सीमा त्रिखा, केबिनेट मंत्री विपुल गोयल सहित शहर के विधायक व मेयर भी मौजूद रहीं। सम्मेलन की शुरूआत करने के बाद गृहमंत्री ने किसान भाईयों को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा सरकार किसानों के प्रति संवेदनशील है और भारत की अर्थव्यवस्था के साथ – साथ ग्रामीणों क्षेत्र की अर्थव्यस्था को ठीक करने व उनका विकास करने के लिये सरकार ने हाल ही में 1 लाख 87 हजार करोड रूपये का बजट पास किया है। वहीं कृषि मंत्री ओपी धनखड ने मीडिया के माध्यम से कहा कि गाय का दूध घी प्रयोग करने से किसी किसान को दिल का दौरा नहीं पडेगा और सभी किसानों की पत्नियां स्लीम ड्रिम रहेंगी।

गुडगांव में आयोजित हुए पहले कृषि नेतृत्व शिखर सम्मेलन की सफलता के बाद दूसरा तीन दिवसीय सम्मेलन फरीदाबाद के सूरजकुंड मेला परिसर में आयोजित किया जा रहा है, जिसका उद्घाटन आज गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। कृषि सम्मेलन में पहुंचे राजनाथ सिंह ने सर्वप्रथम सलामी ली और फिर सम्मेलन के लिये सभागार में प्रवेश किया जहां उनके पहुंचने पर हरियाणा के कृषिमंत्री ओपी धनखड ने गुलदस्ते देकर स्वागत किया। स्वागत की कडी में सम्मेलन में पहुंचे केन्द्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर, सीपीएस सीमा त्रिखा, केबिनेट मंत्री विपुल गोयल सहित शहर के विधायक व मेयर का भी स्वागत किया गया।

व्यस्तता के चलते सर्वप्रथम किसान भाईयों को संबोधित करते हुए कहा कि देश का किसान मेरे परिवार का सदस्य हैं क्योंकि वो स्वयं भी एक किसान परिवार से संबंध रखते हैं, साथ ही उन्होंने कृषि सम्मेलन के लिये हरियााणा के कृषि मंत्री ओपी धनखड को बधाई देते हुए कहा कि हरियाणा सरकार परम्परागत कृषि को आधुनिक कृषि बनाने में कार्य कर रही है, गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि 21वें सदी में कृषि क्षेत्र ही सन-राइजिंग सैक्टर है जिसमें अपार संभावनाएं है। कृषि को सम्मानजनक और लाभकारी पेशा बनाया जा सकता है, हमारी सरकार इस दिशा में कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार ने लक्ष्य रखा है कि वर्ष 2019 तक 76 लाख हैक्टेयर असिंचित भूमि को सिंचित बनाया जाएगा। इसी प्रकार, मार्च 2018 तक देशभर की 585 मंडियों को ई-नाम पोर्टल से जोड दिया जाएगा ताकि किसान अपने उत्पादों को बेचने के लिए आनलाईन सुविधा से जुड सकें। उन्होंने कहा कि देश को खाद्यान्न के मामले में आत्मनिर्भर बनाने के लिए हरियाणा और पंजाब राज्यों का अहम योगदान रहा हैं।

उन्होंने कहा कि सरकार किसानों के प्रति संवेदनशील है और नोटबंदी के दौरान किसानों को आ रही दिक्कतों को देखते हुए प्रधानमंत्री जी ने कृषि ऋण पर 60 दिन का ब्याज माफ करने का निर्णय लिया था। उन्होंने कहा कि हमारी अर्थ व्यवस्था के सुधार के साथ-साथ ग्रामीण अर्थ व्यवस्था का भी विकास व सुधार हो, के लिए ग्रामीण विकास में एक लाख 87 हजार करोड रूपए का प्रावधान किया गया है। इसी प्रकार, पंचायतों को भी सशक्त बनाया जा रहा है और विकास का पैसा सीधा उनके खातों में हस्तारिंत किया जा रहा है।

हरियाणा कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ओमप्रकाश धनखड ने कहा कि उन्होंने गाय का दूध घी ए टू टाईम नाम से बेचना  शुरू किया है जो कि बहुत ही लाभकारी होता है, जिसपर चुटकी लेते हुए मंत्री ने कहा कि जो महिलायें अपने पतियों को दिल के दौरो बचाना चाहती हैं तो गाय का दूध घी खिलाना शुरू कर दें और जो पति अपनी पत्नियों को स्लीम ड्रिम देखना चाहते हैं तो वो भी दूध और घी खिलाना शुरू कर दें। इतना ही नहीं  मंत्री ने बताया कि हरियाणा के साथ लगते दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में चार करोड लोगों व उपभोक्ताओं का एक बडा बाजार हैं जिसके लिए हरियाणा के किसानों को पैरी-अर्बन खेती में आगे आना होगा और फल-फूल व सब्जियों के साथ-साथ दूध व मत्स्य के उद्योग को बढावा देते हुए दिल्ली के लिए सप्लाई चेन का काम करना होगा। उन्होंने किसानों से संवाद करते हुए कहा कि आज हरियाणा में 21 लाख दुधारू पशु हैं और यदि हम इस पशुधन को दोगुणा कर दें तो हम देश में दूघ उत्पादन में नंबर एक पर आ जाएंगें। 

( REPORT BY AJAY VERMA 971 631 68 92 )

LEAVE A REPLY