FARIDABAD : – शराब ठेके के विरोध में उत्तरी महिलाओ के साथ पुलिस की धक्का – मुक्की – महिलाओ पर उठाया पुलिस ने हाथ !!!

1
574

TODAY EXPRESS NEWS FARIDABAD ( रिपोर्ट अजय वर्मा ) : फरीदाबाद एनआईटी की पर्वतीय कालोनी डिस्पोजल पर आज शराब के ठेके को लेकर महिलाओ ने ज़ोरदार प्रदर्शन किया और ठेके में तोड़फोड़ तक कर डाली। मामला इतना बढ़ गया की मौके पर पहुंची सारन थाना पुलिस ने आपा खो दिया और बिना महिला पुलिस के उन्होंने महिलाओ के साथ धक्का मुक्की की और कई महिलाओ को थप्पड़ भी मारे। इस पर महिलाये बेकाबू हो गयी यहाँ तक की पुलिस ने कई महिलाओ को जबरन जिप्सी में बैठाकर बंद कर दिया जिसे छुड़ाने के लिए महिलाओ ने जिप्सी का घेराव कर दिया। दरअसल इस ठेके को लेकर स्थानीय लोग विरोध कर रहे थे लेकिन सुनवाई न होते देश आज महिलाओ ने ही इस ठेके के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। मौके पर पहुंची सारन थाना पुलिस की कार्यशैली और महिलाओ से किये गए व्यवहार को लेकर लोगो में भारी रोष बना हुआ है. स्तिथि को काबू करने में सारन थाना एसएचओ नरेंद्र सागवान पूरी तरह से विफल रहे और पुलिस ने आपा खोते हुए बिना महिला पुलिस को बुलाये महिलाओ के साथ धक्का मुक्की और थप्पड़ मारने की घटनाओ को अंजाम दिया। गौरतलब है की शहर के अंदरूनी हिस्सों में शराब के ठेको का विरोध लगातार हो रहा है और प्रदेश में भी कई जिलों से विरोध प्रदर्शन और ठेको में तोड़फोड़ की खबरे रोजाना आ रही है लेकिन यह पहला मामला है की जहाँ पुलिस ने महिलाओ पर हाथ उठाने से गुरेज नहीं किया। प्रदर्शनकारी एक बुजुर्ग महिला का कहना था की हम पिछले 40 साल से यहाँ रह रहे है और यहाँ शराब का ठेका नहीं खुलना चाहिए हमारी बहु बेटियां रहती है । पहले तो पुलिस वाले देर से आये और आते ही मेरे मुँह पर थप्पड़ मार दिया । यहाँ कोई महिला पुलिस नहीं आयी ।

जहाँ महिलाये खुलकर एसएचओ नरेंद्र सागवान पर आरोप लगा रही है की एसएचओ ने महिलाओ के साथ हाथापाई की है वहीँ मौके पर पहुंचे एसीपी राधे श्याम ने मामले की लीपापोती करते हुए एसएचओ के बचाव में कहा की महिलाओ के साथ बदसलूखी जैसी कोई बात नहीं है अगर महिलाओ को विरोध करना था तो जिला उपायुक्त कार्यालय में जाती। महिला पुलिस के न होने पर एसीपी ने बताया की सूचना दे दी गयी है महिला पुलिस भी अभी आ जायेगी।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY