सियाराम सेवा दल के प्रधान ने भाजपा छोड़ थामा ‘आप’ का दामन

0
997

TODAY EXPRESS NEWS : फरीदाबाद, 18 अगस्त। सियाराम सेवा दल के प्रधान सुशील भाटिया एवं अनिल नौनिहाल ने अपने साथियों के साथ भाजपा को छोडक़र आप नेता धर्मबीर भड़ाना के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी का दामन थामा। केजरीवाल की नीतियों से प्रभावित होकर उन्होंने भाजपा को अलविदा कह दिया और ‘आप’ पार्टी से जुड़े हैं और भविष्य में आप पार्टी के साथ जुडक़र अपने राजनीतिक कैरियर का विस्तार करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी गरीबों एवं आम जनता के हित के लिए काम करती है, जबकि भाजपा सरकार में कार्यकर्ताओं का दमन होता है। उन्होंने कहा कि दिल्ली की तर्ज पर हरियाणा में भी आम आदमी पार्टी सरकार बनाएगी और लोगों को बिजली हाफ-पानी माफ करेगी। सरकारी स्कूलो को बेहतरीन बनाया जाएगा और स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार किया जाएगा। इस मौके पर बडख़ल विधानसभा अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने कहा कि आप पार्टी के चलाए जा रहे हरियाणा जोड़ो अभियान के तहत सुशील भाटिया ने अपने साथियों के साथ भाजपा को अलविदा कहकर आप पार्टी ज्वाइन की है। भड़ाना ने कहा कि भाजपा में पैसे का बोलबाला है और कार्यकर्ताओं की अनदेखी है, जिसके चलते लोग पार्टी छोडक़र आम आदमी पार्टी में शामिल हो रहे हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की नीतियों एवं उनकी कार्यशैली से प्रभावित होकर लोग आप पार्टी को प्रदेश की सत्ता पर काबिज करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार लूट एवं भ्रष्टाचार की राजनीति कर रही है। भ्रष्टाचार के नाम पर जीरो टोलरेंस की नीति अपनाने वाली भाजपा के विधायक ही आज चोरों की मदद कर रहे हैं। धर्मबीर भड़ाना ने भाजपा छोड़ आप पार्टी में शामिल हुए लोगों का स्वागत किया और कहा कि भारतीय जनता पार्टी के दिन अब लद चुके हैं और आने वाला समय आप पार्टी का है। इसलिए ज्यादा से ज्यादा संख्या में आप का दामन थामो और दिल्ली की तर्ज पर सुविधाओं का लाभ उठाओ। इस मौके पर उनके साथ हरीश विरमानी, सुरेन्द्र नरूला, कुलदीप चावला, डी एस चावला, सागर दुआ, चिरंजीव सागा एवं संगठन मंत्री सुनील ग्रोवर आदि सैंकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे.

( टुडे एक्सप्रेस न्यूज़ के लिए अजय वर्मा की रिपोर्ट )


CONTACT FOR NEWS : JOURNALIST AJAY VERMA – 9716316892 – 9953753769
EMAIL : todayexpressnews24x7@gmail.com , faridabadrepoter@gmail.com

LEAVE A REPLY