गेट 2020 परीक्षा में जे.सी. बोस विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों का शानदार प्रदर्शन

0
691
JC BOSE YMCA FARIDABAD

Today Express News / Report / Ajay Verma / फरीदाबाद, 18 मार्च – हाल ही में घोषित ऑल इंडिया गेट 2020 (ग्रेजुएट एप्टीट्यूड टेस्ट इन इंजीनियरिंग) परीक्षा परिणाम में जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद के विद्यार्थियों ने बाजी मारी है। विश्वविद्यालय के विभिन्न इंजीनियरिंग एवं विज्ञान विभागों के 82 विद्यार्थियों ने इस अत्यधिक प्रतिस्पर्धी परीक्षा को उत्तीर्ण करने में सफलता हासिल की है। गेट की परीक्षा फरवरी 2020 माह में आईआईटी दिल्ली द्वारा देश तथा विदेश के 199 परीक्षा केन्द्रों में ऑनलाइन आयोजित की गई थी। इस प्रकार, जे.सी. बोस विश्वविद्यालय ने प्रदेश के अन्य तकनीकी विश्वविद्यालयों को गेट परीक्षा की शीर्ष रैंकिंग और परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले विद्यार्थियों की संख्या के मामले में पीछे छोड़ दिया है। गेट परीक्षा में शीर्ष 100 में अपना स्थान बनाने वाले विद्यार्थियों में विश्वविद्यालय के इलेक्ट्रॉनिक्स और इंस्ट्रूमेंटेशन (ईआईसी) इंजीनियरिंग के विद्यार्थी आशीष कुमार गुप्ता ने ऑल इंडिया 9वां रैंक प्राप्त किया है जबकि ईआईसी के ही यशिका गर्ग और अमित जांगड़ा ने क्रमशः 48वां और 90वां रैंक हासिल किया है। इसी प्रकार, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग के विद्यार्थी अमित शुक्ला ने 92वां रैंक हासिल किया है। सभी शैक्षणिक विभागों में मैकेनिकल इंजीनियरिंग से 31, इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग से 16, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग से 14, कम्प्यूटर इंजीनियरिंग से 12, फिजिक्स से पांच तथा कैमिस्ट्री से चार विद्यार्थियों ने परीक्षा उत्तीर्ण की है। कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने विद्यार्थियों को उनकी उपलब्धि पर बधाई दी है और कहा है कि विद्यार्थियों को हमेशा विश्वविद्यालय को गौरवान्वित किया है तथा शैक्षणिक मामले में उत्कृष्टता के नए मानदंड स्थापित किए हैं। कुलपति ने विद्यार्थियों के सफल भविष्य की कामना की है। इस साल गेट परीक्षा के लिए 858890 अभ्यार्थियों ने 25 पेपरों में पंजीकृत करवाया था, जिसमें से 685088 अभ्यार्थियों (79.76 प्रतिशत) ने परीक्षा दी और केवल 18.8 प्रतिशत अभ्यार्थी ही परीक्षा उत्तीर्ण करने में सफल रहे। परीक्षा का परिणाम 13 मार्च, 2020 को आईआईटी दिल्ली ने घोषित किया। परीक्षा परिणाम की घोषणा की तारीख से तीन साल के लिए वैध रहता है। ग्रेजुएट एप्टीट्यूड टेस्ट इन इंजीनियरिंग (गेट) राष्ट्रीय समन्वय बोर्ड (एनसीबी) -गेट, उच्च शिक्षा विभाग, मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार की ओर से भारतीय विज्ञान संस्थान (आईआईएससी), बेंगलूरू और सात भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (मुंबई, दिल्ली, गुवाहाटी, कानपुर, खड़गपुर, मद्रास और रुड़की) द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित प्रतिस्पर्धी परीक्षा है। उल्लेखनीय है कि गेट की परीक्षा एमएचआरडी और अन्य सरकारी संस्थानों में इंजीनियरिंग, प्रौद्योगिकी, आर्किटेक्चर के पीजी या सीधे डॉक्टोरल पाठ्यक्रमों तथा संबंधित विज्ञान संकायों में डॉक्टोरल पाठ्यक्रमों में दाखिला या सहायता अनुदान प्राप्त करने के लिए अनिवार्य योग्यता है। कुछ कॉलेजों और संस्थानों में, जो एमएचआरडी छात्रवृत्ति या सहायता के बिना विद्यार्थियों को प्रवेश देते है, गेट योग्यता अनिवार्य है। इसके अलावा, कई सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम (पीएसयू) अपनी भर्ती प्रक्रिया में भी गेट स्कोर का उपयोग कर रहे हैं। इस प्रकार, इंजीनियरिंग में करियर बनाने वाले विद्यार्थियों के लिए गेट परीक्षा का काफी महत्व है।

LEAVE A REPLY