Indian Medical Association के हरियाणा सरकार के बजट के लिए सुझाव

0
684
ima faridabad

Today Express News / Ajay verma / 1 क्योंकि गरीब और मध्यम वर्गीय लोगो के लिए गंभीर बीमारियों के इलाज़ व्यवस्था नहीं है, इसके लिए या तो सरकार द्वारा पीपीपी मोड पर या किसी और तरीके से अस्पताल बनाए जाने बहुत जरूरी है। ये लोग प्राइवेट अस्पताल में महंगा ईलाज नहीं करवा सकते।

2 सिविल हॉस्पिटल में स्पेशलिस्ट और सुपर स्पेशयलिटी डॉक्टर उपलब्ध करवाने के लिए आकर्षित पैकेज देने पड़ेंगे, अन्यथा वो इन जॉब्स को ज्वाइन नहीं करते हैं या जल्दी छोड़ देते है। क्योंकि प्राइवेट सेक्टर में बहुत ज्यादा इंसेंटिव है। ये सरकार के लिए बहुत कठिन कार्य है, लेकिन जरूरी  है। यदि सैलरी नहीं बड़ा सकते तो आकर्षित एडिशनल इंसेंटिव जोड़े किए जा सकते हैं।

3 रूरल एरिया में डॉक्टर रोकने के लिए एक्स्ट्रा इंसेंटिव और अच्छी लिविंग कंडीशंस और अच्छा इंफ्रास्ट्रक्चर की व्यवस्था करनी चाहिए, जिससे डाक्टर वहां रुकने के प्रेरित हो।

4 आयुष्मान योजना में सरकार ने पैकेज रेट पहले से कम कर दिए हैं।इसके  तहत गरीबों को इलाज दिलाने के लिए प्राइवेट अस्पतालों को आकर्षित करने के लिऐ पैकेज रेट घटाने की बजाए बढ़ाने चाहिए। उनकी तरफ सॉफ्ट एटीट्यूड होना चाहिए। इससे बड़े अस्पताल भी इस योजना में शामिल होंगे।

5 कोविड से लड़ते हुए जिन डॉक्टर्स ने अपनी जान गंवाई है,उनका मुआवजा जल्द से जल्द सरकार को देना चाहिए।

6 कोरोनावायरस महामारी में डॉक्टर्स की भागीदारी और योगदान को मध्य नजर रखते हुए उनकी एसोसिएशन को हर जिले में कार्यालय बनाने के लिए स्थान दिया जाना चाहिए। इसकी घोषणा डॉक्टर्स डे पर एक जुलाई को की जा सकती है।

धन्यवाद

डॉ सुरेश अरोड़ा मीडिया प्रभारी
डॉ पुनीता हसीजा प्रधान
आईएमए फरीदाबाद

LEAVE A REPLY