इस साल का बजट नए विजन और तकनीकों की नींव पर बनाया गया है

0
361

टुडे एक्सप्रेस न्यूज़ । अजय वर्मा । कृषि और बुनियादी ढांचे पर नए सिरे से ध्यान केंद्रित करने का मतलब होगा त्वरित आर्थिक विकास, जिसे डिजिटल व्यवधानों के बिना पूरा नहीं किया जा सकता है। पूरे देश में रसायन मुक्त प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने की पहल से कृषि उद्योग को मजबूत करने में मदद मिलेगी। वित्तीय पहलुओं को ध्यान में रखते हुए, 2022-2023 कृषि उद्योग के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण साबित होगा। वित्त वर्ष 23 के लिए कृषि खरीद मूल्य 2.37 लाख करोड़ रुपये होगा। इससे हम जैसी एग्रोकेमिकल कंपनियों को विश्वसनीयता का निर्माण करने और उच्च विकास की ओर बढ़ने पर अधिक ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलेगी।

एग्रोटेक क्षेत्र के तेजी से चैनलीकरण और तिलहन के घरेलू उत्पादन को बढ़ावा देने के साथ, यह हमारे युवाओं को कृषि से संबंधित आवश्यक कौशल गुणों और रसायनों व कीटनाशकों के उपयोग के लिए दिए जाने वाले प्रशिक्षण में हमारे खर्च को बढ़ाने का एक उपयुक्त समय है। इससे अवसरों का लाभ उठाने में मदद मिलेगी। 2.37 लाख करोड़ रुपये को एमएसपी संचालन के तहत गेहूं और धान की खरीद के लिए व्यवस्थित करने की सरकार की योजना किसानों और कृषि हितधारकों के लिए एक बड़ी राहत है। इसके अलावा, वर्ष 2022-23 को अंतर्राष्ट्रीय बाजरा वर्ष (इंटरनेशनल ईयर ऑफ मिलेट्स) के रूप में घोषित किया गया है। आयात में कटौती के लिए घरेलू तिलहन उत्पादन बढ़ाने की तार्किक योजना कृषि रसायन उद्योग के विकास को बढ़ावा देगी।

जिन प्रमुख क्षेत्रों में हमने सुधार की उम्मीद की थी, उनमें लेवी और करों के अऩुमान लगाए जाने में स्थिरता और उसे तर्कयुक्‍त बनाना है। 44,605 करोड़ रुपये की लागत वाले केन बेतवा नदी जोड़ने की परियोजना के साथ फसल मूल्यांकन, भू-अभिलेख और कीटनाशकों के छिड़काव के लिए किसान ड्रोन की घोषणा से कृषि क्षेत्र में तकनीक की लहर देखने को मिलेगी। ये सभी नए उपाय और नीतियां इस बजट को संपूर्ण बनाती हैं, जिससे हमें बेहतर उत्पादकता विजन प्राप्त करने के लिए उद्योग में नवाचार और निवेश को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी। एसके चौधरी, संस्थापक निदेशक, सेफेक्स केमिकल्स

LEAVE A REPLY