अमृता अस्पताल फरीदाबाद ने ग्लूकोमा के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए वॉकाथन आयोजित किया

0
84

टुडे एक्सप्रेस न्यूज़ । रिपोर्ट अजय वर्मा । फरीदाबाद, 11 मार्च: अमृता अस्पताल फरीदाबाद द्वारा रविवार 10 मार्च को फरीदाबाद स्थित ओमेक्स वर्ल्ड स्ट्रीट में वॉकाथन आयोजन किया गया। इस वॉकाथन का उद्देश्य ग्लूकोमा के जल्दी निदान के बारे में लोगों को जागरूक करना और ग्लूकोमा से बचाव और इलाज के लिए नियमित जांच कराना है।

इस साल ग्लूकोमा अवेयरनेस वीक 10 मार्च से 16 मार्च तक है, जिसकी थीम “द वर्ल्ड इज ब्राइट, सेव योर साइट” है। वॉकाथन में विशेष अतिथी के रूप में इंडियन मेडिकल काउंसलिंग फरीदाबाद के प्रेसिडेंट डॉ दिनेश के गुप्ता और आईएमए के माननीय सचिव डॉ अश्विनी वाधवां समेत अमृता अस्पताल के नेत्र विज्ञान विभाग की एचओडी डॉ मीनाक्षी धर, सीनियर कंसलटेंट अमृता कपूर चतुर्वेदी, सीनियर कंसलटेंट चित्रलेखा डे और कंसलटेंट रश्मि मित्तल शामिल हुए। इसके अलावा अस्पताल के अन्य डॉक्टर, स्टाफ और नर्सिंग कॉलेज के छात्रों ने भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। इस वॉकाथन में लगभग 250 लोग शामिल हुए।

अमृता अस्पताल के नेत्र विज्ञान विभाग की एचओडी डॉ मीनाक्षी धर ने कहा, “आज हम यहां ग्लूकोमा के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए इकट्ठा हुए हैं, जो दुनिया में अपरिवर्तनीय अंधेपन का कारण है। रेगुलर चेकअप कराना महत्वपूर्ण हैं, जिसमें आंखों का प्रेशर और ऑप्टिक नर्व की जांच की जाती है। जो लोग एस्टेरॉयड पर हैं, जिनके चश्में का नंबर ज्यादा है, जिनका ग्लूकोमा का पारिवारिक इतिहास है या जिन्हें कभी आंख में चोट लगी है, इन सभी लोगों को ग्लूकोमा होने का खतरा सबसे ज्यादा रहता है। जो लोग 40 साल की उम्र या उससे ऊपर हैं, उन्हें नियमित रूप से अपनी आंखों की जांच करानी चाहिए।”

अमृता अस्पताल के नेत्र विज्ञान विभाग की सीनियर कंसलटेंट अमृता कपूर चतुर्वेदी ने कहा, “ग्लूकोमा अवेयरनेस वीक का उद्देश्य आम लोगों के बीच इस बीमारी के बारे में जागरूकता फैलाना है। ग्लूकोमा दुनिया में रोकथाम योग्य अंधेपन का सबसे बड़ा कारण है और दुर्भाग्य से ज्यादातर लोगों को पता ही नहीं होता कि उन्हें यह बीमारी है।”

ग्लूकोमा की नियमित जांच के फायदे के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए अमृता अस्पताल फरीदाबाद ने फ्री ग्लूकोमा स्क्रीनिंग का आयोजन किया है। जो कि 11 मार्च 16 मार्च तक दोपहर 2 बजे से 4 बजे तक की जाएगी।

LEAVE A REPLY