अमृता अस्पताल के डॉक्टर ने की गंभीर किडनी की क्षति वाली नवजात बच्ची की डायलिसिस

0
400
Doctor of Amrita Hospital did dialysis of newborn girl with severe kidney damage

टुडे एक्सप्रेस न्यूज़ । रिपोर्ट अजय वर्मा । नई दिल्ली/20 फरवरी, 2023: 6 दिन की एक बच्ची, जिसका वजन 1.34 किग्रा था, जन्म से ही पेशाब नहीं कर रही थी। जब बच्ची गर्भ में थी तभी उसने अपने पिता को डेंगू के कारण खो दिया था और उसकी परेशान मां उसे फरीदाबाद के अमृता अस्पताल लेकर पहुंची, जहां डॉक्टरों ने जांच कर उसके गुर्दे की गंभीर क्षति का पता लगाया, जिसे एक्यूट रीनल फेल्योर भी कहा जाता है। बच्चे को बचाने के लिए, उन्होंने एक ऐसी प्रक्रिया करने का फैसला किया जो शायद ही कभी नवजात शिशुओं के लिए की जाती है – डायलिसिस।

फरीदाबाद के अमृता अस्पताल के नियोनेटोलॉजी विभाग के कंसलटेंट डॉ. हेमंत शर्मा ने कहा, “एनआईसीयू में छोटे बच्चों में गुर्दे की गंभीर क्षति आम है, जिनमें से लगभग 10-20% इससे पीड़ित हैं। हालांकि, गंभीर एक्यूट गुर्दे की क्षति, जिसके लिए डायलिसिस की आवश्यकता होती है, अत्यंत दुर्लभ है। इतने छोटे बच्चों का डायलिसिस शायद ही दुनिया में कहीं होता है और सफलता की दर बेहद कम है।

डॉक्टरों ने बच्ची का पेरिटोनियल डायलिसिस किया। फरीदाबाद के अमृता अस्पताल के नेफ्रोलॉजी विभाग की प्रमुख डॉ. उर्मिला आनंद ने कहा, “किडनी शरीर से अपशिष्ट को निकालने के लिए आवश्यक हैं। हालांकि, अगर किडनी किसी कारण से कार्य करना बंद कर देती हैं, जैसे कि प्रसवपूर्व क्षति, रक्त का अपशिष्ट से भर जाना आदि। यह बच्चे के खाने की क्षमता में बाधा डालता है और शरीर में सुस्ती, रक्तस्राव और सूजन का कारण बनता है। यह मस्तिष्क, हृदय और फेफड़ों जैसे अन्य अंगों को भी प्रभावित कर सकता है।

डॉ. हेमंत शर्मा ने कहा, “नवजात बच्ची के मामले में, उसकी किडनी खराब हो गई थी। हमने उसके शरीर से अपशिष्ट को साफ करने के लिए पेरिटोनियल डायलिसिस का करने का निर्णय लिया। सफाई के घोल को धीरे-धीरे उसके पेट में इंजेक्ट किया गया और फिर शरीर से अपशिष्ट को बाहर निकाला गया। उसके गुर्दे को ठीक होने तक कई बार इस प्रक्रिया को दोहराया गया, जो नौ दिनों तक चली। यह प्रक्रिया सफल रही। भारत में नवजात शिशु पर डायलिसिस किए जाने वाले ऐसे बहुत कम मामले थे। हमने हेमोडायलिसिस के बजाय पेरिटोनियल डायलिसिस का विकल्प चुना क्योंकि आमतौर पर ऐसे छोटे बच्चों पर हेमोडायलिसिस नहीं किया जाता है।

डॉ. हेमंत शर्मा ने आगे कहा, “डायलिसिस ऐसे छोटे बच्चे में न केवल तकनीकी रूप से कठिन होता है, बल्कि काफी जटिलताएं भी होती हैं। प्रक्रिया आमतौर पर कम से कम 10 किलो शरीर के वजन वाले बच्चों पर की जाती है। इस मामले में बच्चे के पास नेफ्रॉन रिजर्व कम था। उसके पेट की परत के संक्रमण का भी अधिक जोखिम था। इस चुनौती के बावजूद हमने सख्त अपूतिता को बनाए रखा और किसी एंटीबायोटिक का उपयोग नहीं किया। ऑपरेशन सफल रहा और बच्चा अब पूरी तरह स्वस्थ है। अब वो स्तनपान कर रहा है और उसका वजन बढ़ गया है। उसके गुर्दे का कार्य लगभग सामान्य हो गया है, और वह सामान्य रूप से पेशाब कर रही है। अब उसके सामान्य रूप से किसी भी अन्य स्वस्थ नवजात शिशु की तरह बड़े होने की उम्मीद है।

बच्ची की मां ने कहा, “वह मेरे लिए एक बहुत ही अनमोल बच्चा है, क्योंकि जब मैं गर्भवती थी तब डेंगू के कारण मैंने अपने पति को खो दिया था। जब मुझे पता चला कि मेरी बेटी के साथ कुछ परेशानी है, मैं पूरी तरह से टूट चुकी थी, क्योंकि वह अपने जन्म के दिन से पेशाब नहीं कर रही थी। मैं अमृता अस्पताल के डॉक्टरों को दिल से धन्यवाद देती हूं कि उन्होंने मेरे नवजात बच्चे पर इस कठिन प्रक्रिया को किया और उसकी जान बचाई।”

LEAVE A REPLY