फिल्ममेकर अभिषेक कपूर आर्टिस्टिक फ्रीडम, एनिमल और रणबीर कपूर के सपोर्ट में उतरे!

0
144

टुडे एक्सप्रेस न्यूज़। रिपोर्ट मोक्ष वर्मा। अपने प्रोग्रेसिव और सोशली रिलेवेंट फिल्मों, ‘चंडीगढ़ करे आशिकी’, ‘काई पो छे’ और ‘फितूर’ के साथ हिंदी सिनेमा में पॉजिटिव चेंज लाने वाले, फ़िल्ममेकर अभिषेक कपूर डायरेक्टर संदीप रेड्डी वांगा की एनिमल और फिल्म के लीडिंग मैन रणबीर कपूर के समर्थन में सामने आए हैं। यह समर्थन उनकी ओर से तब आया जब फिल्म को दर्शकों के एक वर्ग से मिसोजिनी और इंटरपर्सनल वायलेंस के विरोध का सामना करना पड़ रहा है।

दिल्ली में एक न्यूज़ कॉन्क्लेव में बात करते हुए, अभिषेक ने कहा कि फ़िल्म डायरेक्टर की क्रिएटिव एक्सप्रेशन है और उन्हें अपनी कहानी कहने की अनुमति दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा, “फिल्म (एनिमल) को ए सर्टिफिकेशन मिला है। यह स्त्री मिसोजिनी हो सकती है लेकिन ऐसे लोग मौजूद हैं। फ़िल्ममेकर और क्रिएटिव आर्टिस्ट के रूप में, हमें अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का जश्न मनाना चाहिए।”

उन्होंने अपनी जनरेशन के टॉप स्टार होने के बावजूद फिल्म में डायरेक्टर रेड्डी के विजन के प्रति पूरी तरह से समर्पण करने के लिए रणबीर कपूर की सराहना की। कपूर ने कहा “इसने मुझे स्तब्ध कर दिया। एक्टर वही कर रहे थे, जो निर्देशक उन्हें करने के लिए कह रहे थे। आज के स्टार्स के बीच ऐसा देखना बहुत रेयर है। उन सभी को लगता है कि उन्हें अपने ऑडियंस को केटर करना है इसलिए उनके पास एक सेट है। वे वही करना चाहते हैं, जिसकी वजह से फिर डायरेक्टर का विजन कॉम्प्रोमाइज हो जाता है।”

डायरेक्टर ने कहा “जब फिल्म को जनता द्वारा पसंद किया जाता है तो आप इसे इसके नेगेटिव ट्रेट के कारण नकार नहीं सकते। फिल्म में कुछ नेगेटिव ट्रेट हैं लेकिन यह सिर्फ एक फिल्म है और यह आपके एंटरटेनमेंट के लिए है।”

LEAVE A REPLY