वित्त वर्ष 2023-24 के लिए क्रिप्टो टैक्स फाइल करना सीखना: आपकी पूरी गाइड

0
90

टुडे एक्सप्रेस न्यूज़ |  अजय वर्मा | क्रिप्टो कई व्यक्तियों के लिए एक मामूली लाभ से एक ज़रुरी वित्तीय एसेट बन चुका है। हालांकि, इसकी बढ़ती लोकप्रियता के साथ टैक्स अधिकारियों के द्वारा इसकी जांच बढ़ गई है। भारत सरकार ने क्रिप्टो लेनदेन के लिए टैक्स पर स्पष्ट दिशानिर्देश प्रदान किए हैं। जैसे-जैसे वित्त वर्ष 2023-24 (मूल्यांकन वर्ष 2024-25) के लिए टैक्स रिटर्न भरने की अंतिम तिथि नज़दीक आ रही है, क्रिप्टो निवेशकों के लिए टैक्स फाइल करने की प्रक्रिया के लिए अच्छी तरह से तैयार होना जरूरी है। आपको अपने क्रिप्टो टैक्स फाइल करने के लिए क्या चाहिए, इस पर एक विस्तृत गाइड यहां दी गई है:

टैक्स फॉर्म को समझना
सबसे पहले, फाइल किए जाने वाले उचित आयकर रिटर्न (आईटीआर) फॉर्म का निर्धारण करना जरूरी है। क्रिप्टोकरेंसी और वर्चुअल डिजिटल एसेट (वीडीए) ट्रांसफर करने से आय की जानकारी देने के लिए, व्यक्तियों को आईटीआर-2 या आईटीआर-3 का इस्तेमाल करना चाहिए। इन फॉर्म में शेड्यूल वर्चुअल डिजिटल एसेट (शेड्यूल वीडीए) नामक एक मजबूत भाग शामिल है, जहां क्रिप्टो लेनदेन की विस्तृत जानकारी देना आवश्यक है।

● आईटीआर-2: यह उन व्यक्तियों के लिए उपयुक्त है जिन्हें वीडीए में निवेश करने से पूंजीगत लाभ मिला है और जिनकी कोई व्यावसायिक आय नहीं है।

● आईटीआर-3: व्यवसायिक या पेशे से संबंधित आय वाले व्यक्तियों के लिए बनाया गया है, जिसमें वीडीए या किसी अन्य व्यवसाय से आय भी शामिल है।

शेड्यूल वर्चुअल डिजिटल एसेट (शेड्यूल वीडीए)
यह अनुसूची अधिग्रहण तारीख, बिकने की तारीख, बिक्री मूल्य, अधिग्रहण लागत, और लाभ या हानि राशि सहित सभी वीडीए लेनदेन की सूचना देने को अनिवार्य करती है। लाभ पर टैक्स देयता निर्धारित करने और टैक्स के नियमों का अनुपालन करने के लिए शेड्यूल वीडीए में सही जानकारी देना जरूरी है।

टैक्स देयता की गणना
क्रिप्टो लाभ के लिए टैक्स देयता की गणना में एक आसान सा अर्थमैटिक ऑपरेशन शामिल है: बिकने के मूल्य से अधिग्रहण की लागत हटा देना। दिखाए गए लाभ पर 30% की समान दर से टैक्स लगाया जाता है। लाभ या हानि की सही गणना करने और टैक्स देयता निर्धारित करने के लिए लेनदेन का विस्तृत रिकॉर्ड रखना जरूरी है।

अलग-अलग लेनदेन के लिए विशिष्ट टैक्स निहितार्थ
अलग-अलग प्रकार के क्रिप्टो लेनदेन विशिष्ट टैक्स निहितार्थ को आकर्षित करते हैं:

● भारतीय रुपये से क्रिप्टोकरेंसी खरीदना आम तौर पर टैक्स-फ्री होता है। हालांकि, यदि पीयर-टू-पीयर या विदेशी करेंसी से खरीदते हैं, तो 1% टीडीएस कटता है।

● क्रिप्टोकरेंसी बेचने पर लेनदेन पर 1% टीडीएस कटने के साथ लाभ पर 30% टैक्स लगता है।

● यदि ओनरशिप बदलती नहीं है तो वॉलेट ट्रांसफर टैक्स-फ्री होते हैं, क्योंकि यह व्यावसायिक लेनदेन नहीं है।

● एयरड्रॉप्स और फोर्क्स पर प्राप्तकर्ता को 30% टैक्स देना होता है।

● यदि क्रिप्टो गिफ्ट परिवार के सदस्यों से प्राप्त होते हैं या जिनकी कीमत 50,000 रुपये (उसी वित्तीय वर्ष में) से कम है, तो उन्हें टैक्स से छूट दी गई है। इस लिमिट से अधिक की रकम पर प्राप्तकर्ता को टैक्स देना होता है।

● माइनिंग और स्टेकिंग रिवॉर्ड पर लागू दरों के आधार पर टैक्स लगाया जाता है, रिवॉर्ड को बेचने या उपयोग करने पर 30% टैक्स लगाया जाता है।

क्रिप्टो घाटे को संभालना
वीडीए ट्रांसफर से होने वाले नुकसान को किसी भी आय से समायोजित नहीं किया जा सकता है, जिससे उनकी रिपोर्टिंग शून्य के रूप में आवश्यक हो जाती है। इसका मतलब यह है कि भले ही एक बिटकॉइन फायदे में बेचा जाए और दूसरा घाटे पर, सरकार को केवल एक टोकन से होने वाले लाभ पर 30 प्रतिशत टैक्स देना होगा।

रिपोर्टिंग और अनुपालन
लेन-देन का सही रिकॉर्ड बनाए रखना, क्रिप्टो एसेट के वर्गीकरण का निर्धारण करना, और नए टैक्स नियमों के बारे में जानकारी रखना टैक्स रिपोर्टिंग और अनुपालन के लिए आवश्यक है। आयकर विभाग के जुर्माने से बचने के लिए क्रिप्टो लाभ की सही जानकारी देना जरूरी है।

क्रिप्टो टैक्स फाइलिंग के लिए आवश्यक रिपोर्ट
ऐसी तीन रिपोर्ट हैं जिनकी करदाताओं को आवश्यकता हो सकती है:

● संपूर्ण ट्रेडिंग रिपोर्ट: यह रिपोर्ट सभी क्रिप्टो खरीदने और बेचने का व्यापक विवरण प्रदान करती है।

● लाभ और हानि रिपोर्ट: यह रिपोर्ट विशेष रूप से क्रिप्टो एसेट के निपटान से होने वाले लाभ और हानि की रिपोर्ट करने के लिए बनाई गई है।

● अन्य लाभ रिपोर्ट: इस रिपोर्ट का इस्तेमाल क्रिप्टो स्पेस के फाइनेंशियल कॉन्ट्रैक्ट और अन्य प्रॉफिट-लॉस (पीएनएल)प्रोडक्ट के लिए किया जाता है।

क्रिप्टो टैक्स फाइलिंग चेकलिस्ट
● सही आईटीआर फॉर्म चुनें: आईटीआर-2 या आईटीआर-3 में से किसी एक को चुनें।

● लेन-देन की जानकारी इकट्ठा करें: अधिग्रहण तिथियों, बिक्री तिथियों, बिक्री मूल्य, और अधिग्रहण लागत सहित व्यापक विवरण प्राप्त करें।

● संपूर्ण शेड्यूल वीडीए: चुने गए आईटीआर फॉर्म के शेड्यूल वीडीए में क्रिप्टो लेनदेन की ठीक से जानकारी दें।

● टैक्स देयता कीगणना: लाभ या हानि की गणना करें और क्रिप्टो लाभ पर 30% की समान टैक्स रेट लागू करें।

● टीडीएस कटौतीकी जांच करें: अपने क्रिप्टो ट्रेड पर टीडीएस कटौती की पुष्टि करें और फॉर्म 26एएस में सही जानकारी देना सुनिश्चित करें। अंतिम टैक्स देयता का निर्धारण करते समय सही ढंग से काटा गया टीडीएस क्लेम करें।

ज्ञान और उपकरणों के माध्यम से उपयोगकर्ताओं को सशक्त बनाए
क्रिप्टो निवेशकों को आवश्यक साधन देकर उन्हें समर्थ बनाने के व्यापक महत्व पर जोर देते हुए, वज़ीरएक्स के उपाध्यक्ष, राजगोपाल मेनन, क्रिप्टो टैक्सेशन को नेविगेट करने में शिक्षा और उपकरणों के महत्व पर जोर डालते हैं। उन्होंने कहा कि: “यह सुनिश्चित करना ज़रूरी है कि निवेशकों के पास अपने क्रिप्टो टैक्स दायित्वों को प्रबंधित करने के लिए आवश्यक ज्ञान और उपकरण हों। शिक्षा संबंधी साधन और डाउनलोड करने योग्य ट्रेडिंग रिपोर्ट और पी/एल स्टेटमेंट जैसे टूल इस्तेमाल करके, हम वज़ीरएक्स में उपयोगकर्ताओं को अपने टैक्स को सही तरीके से और समय पर भरने में सशक्त बनाने के लिए समर्पित हैं।”

 ( राजगोपाल मेनन, उपाध्यक्ष, वाजिरएक्स ) ( Mr. Rajagopal Menon, Vice President, WazirX )

LEAVE A REPLY