स्कूल ऑफ लॉ, मानव रचना यूनिवर्सिटी ने बार काउंसिल ऑफ पंजाब एंड हरियाणा, चंडीगढ़ द्वारा आयोजित कानूनी शिक्षा और प्रशिक्षण संगोष्ठी की मेजबानी की

0
402
School of Law, Manav Rachna University hosted Legal Education and Training Seminar organized by Bar Council of Punjab & Haryana, Chandigarh

टुडे एक्सप्रेस न्यूज़ । रिपोर्ट अजय वर्मा । 14 मार्च, 2023: बार काउंसिल ऑफ पंजाब एंड हरियाणा के तत्वधान में स्कूल ऑफ लॉ मानव रचना यूनिवर्सिटी में लीगल एजुकेशन और ट्रेनिंग के लिए सेमिनार का मार्च 11, 2023 को आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य रुप से प्रोफेशनल एथिक्स कोर्ट ऑफ कंडेक्ट और न्यायालय के बारे में आम जनमानस की क्या विचारधारा है इन सब विषयों पर विस्तृत परिचर्चा और गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में माननीय पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट के विद्वान न्यायाधीश बी एस वालिया, एवं (रिटायर्ड) माननीय न्यायाधीश हरिपाल वर्मा लोकायुक्त हरियाणा ने शिरकत की।

विशिष्ट अतिथियों में जिला एवं सत्र न्यायाधीश फरीदाबाद वाई एस राठौर, पंजाब एंड हरियाणा बार चेयरमैन सुविर सिधु, मेंबर बार काउंसिल ऑफ इंडिया एडवोकेट प्रताप सिंह, ऑरनरी सेक्रेटरी गुरतेज सिंह ग्रेवाल, को- चेयरमैन एंड चेयरमैन लीगल ट्रेनिंग कमेटी हरियाणा एडवोकेट सुरेंद्र दत्त शर्मा, को- चेयरमैन राजकुमार चौहान, चेयरमैन एग्जीक्यूटिव कमेटी सी एम मुंजाल, चेयरमैन रूल्स एंड ड्राफ्टिंग कमेटी राकेश गुप्ता, चेयरमैन लीगल एजुकेशन कमेटी हरीश राय ढांडा, मेंबर एनरोल्ड कमेटी बार काउंसिल अजय चौधरी, ने भी अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्वलन और स्वागत समारोह से हुई।

 स्वागत कर्ता टैक्स बार एसोसिएशन फरीदाबाद के अध्यक्ष एडवोकेट दयाराम चौधरी, महासचिव राजेंद्र शर्मा, पूर्व अध्यक्ष एडवोकेट संदीप सेठी,एडवोकेट एस एन त्यागी, एडवोकेट विजय शर्मा, एडवोकेट महेश शर्मा, एडवोकेट संजय डिंडे एडवोकेट प्रहलाद गर्ग, एडवोकेट के के मिश्रा, एडवोकेट सत्येंद्र यादव, एडवोकेट राजेश गुप्ता, एडवोकेट आर एस गौड़, एडवोकेट आशीष कौशिक आदि अधिवक्ताओं ने गणमान्य अतिथियों का बहुत ही उत्साह के साथ स्वागत किया।  तत्पश्चात कार्यक्रम में अपने विचार रखते हुए न्यायाधीश बी एस वालिया और न्यायाधीश हरी पाल वर्मा लोकायुक्त ने सभी मेंबर्स को ऐसे कार्यक्रम का आयोजन करने के लिए बधाई देते हुए अपने विचार रखे.

उन्होंने कहा कि अधिवक्ता समाज के मुख्य अंश हैं और कोर्ट ऑफ कंडेक्ट और एथिक्स हर आदमी के लिए आवश्यक है लेकिन अधिवक्ता होने के नाते हमारी जिम्मेदारी ज्यादा हो जाती है क्योंकि समाज हम से प्रेरणा पाता है इसलिए यह आवश्यक है कि हमारे व्यवहार और विचार से भी हम लोग नियमित अनुशासित नजर आए। इससे बार और बेंच की व्यवस्था भी सुचारू रूप से चलती है और जरूरतमंद को न्याय मिलने में आसानी रहती है आगे उन्होंने बताया कि अधिवक्ता को हमेशा अपने मुवक्किल के प्रति ईमानदार रहना चाहिए। हर संभव उसकी मदद करनी चाहिए कानून के दायरे में रहकर क्योंकि समाज का कोई भी प्राणी न्याय पाने के लिए अधिवक्ताओं की तरफ बहुत ही आस भरी निगाह से देखता है। और समाज अधिवक्तागण को बहुत ही सम्मानित दृष्टि से देखता है। अब यह हमारी जिम्मेदारी बनती है कि हम अपने आचरण और अपने अनुभवों के आधार पर समाज में इस महान परंपरा को और आगे ले जा सके।

कार्यक्रम संचालन में मुख्य रूप से मानव रचना यूनिवर्सिटी की स्कूल ऑफ लॉ की टीम, और मुख्य रूप से एम आर ई आई के अध्यक्ष डॉ प्रशांत भल्ला के साथ डिस्ट्रिक टैक्स बार एसोसिएशन फरीदाबाद एवं को- चेयरमैन एडवोकेट सुरेंद्र दत्त शर्मा और उनकी टीम के साथ शहर के गणमान्य अधिवक्ताओं की मेहनत की आए हुए सभी अतिथियों ने सराहना करते हुए शुभकामनाएं दी।  कार्यक्रम में एडीसी राजेश कुमार सेंट्रल जीएसटी, डीईटीसी विजय कौशिक, डीईटीसी अनिल यादव, को ऑपटेड मेंबर एडवोकेट एसके भारद्वाज, एडवोकेट राजन भाटिया, एडवोकेट राजेश खटाना, पूर्व अतिरिक्त महाधिवक्ता एडवोकेट विकास वर्मा,डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष एडवोकेट संजीव चौधरी, एडवोकेट बॉबी रावत, डिस्ट्रिक्ट टैक्स बार एसोसिएशन के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट दीपक छाबड़ा,ज्वाइंट सेक्रेट्री बृजमोहन सैनी, कोषाध्यक्ष विनीत त्यागी,एडवोकेट दीपक गेरा, एडवोकेट एम एस शेखावत, एडवोकेट अजय सिंह, एडवोकेट मीनू छोकर, एडवोकेट नीतू अरोड़ा, एडवोकेट अरविंद पटेल,एडवोकेट दीपशिखा भारद्वाज, एडवोकेट राजीव वशिष्ठ आदि अधिवक्ता मुख्य रूप से मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY