केंद्रीय बजट 2024 के लिए क्रिप्टोकरेंसी की विशिष्ट शब्दावली को सरल बनाना

0
146

Today Express News | Ajay Varma | अंतरिम केंद्रीय बजट जल्द आने वाला है और Web3 कम्यूनिटी वर्चुअल डिजिटल एसेट्स के भविष्य पर आने वाले फैसले का बेसब्री से इंतज़ार कर रही है। इस कम्यूनिटी के लीडर्स ने वित्त मंत्रालय से इस बारे में स्पष्ट अपेक्षाएं रखी हैं कि VDA के लिए बेहतर एडॉप्शन एनवायरनमेंट को बढ़ावा देने और उनके विकास को बढ़ाने के लिए सर्वोत्तम नीतियां क्या होंगी।

चाहे आप निवेशक हों, मार्केट विश्लेषक/शोधकर्ता हों या केवल इसके समर्थक हों, आप संभवतः 1 फरवरी को बजट घोषणा की प्रतीक्षा कर रहे होंगे। इसलिए यहां कुछ शब्दावली दी गई हैं जिन्हें आपको जानना चाहिए, हो सकता है हमारी वित्त मंत्री अपने भाषण में VDA पर भाषण दें। राजगोपाल मेनन, VP, WazirX

नीचे दिए गए शब्दों को देखने पर आपको बजट की बारीकियों जैसे कर निहितार्थ/सुधार, TDS के प्रावधान, क्रिप्टो एक्सचेंजेस के लिए कानूनी निहितार्थ आदि की समझ आसान हो जाएगी।

शब्दकोष

TDS

TDS, या सोर्स पर लिया गया कर, एक ऐसी प्रक्रिया है जहां भुगतानकर्ता निर्धारित दरों पर कुछ पेमेंट्स से कर लेता है और इसे एक निर्दिष्ट समय सीमा के भीतर केंद्र सरकार को भेज देता है। वर्तमान में, वर्चुअल डिजिटल एसेट्स पर 1% TDS लागू होता है।

TDS की दर

स्रोत पर कर कटौती (TDS) की दर वह प्रतिशत है जिस पर पेमेंट्स से कर काटा जाता है। आयकर अधिनियम में विभिन्न प्रकार की आय के लिए विशिष्ट दरें परिभाषित की गई हैं। वर्चुअल डिजिटल एसेट (VDA) लेनदेन के लिए, निर्दिष्ट दर 1% है।

VDA

VDA” का अर्थ “वर्चुअल डिजिटल एसेट्स” है, जो क्रिप्टोग्राफ़िक माध्यमों से उत्पन्न सूचना, कोड, नंबर, या टोकन जैसी डिजिटल संपत्तियों को कवर करता है। ये संपत्तियां वैल्यू को दर्शाती हैं और इन्हें प्रतिफल के साथ या बिना प्रतिफल के एक्सचेंज किया जा सकता है। इसके उदाहरणों में NFT या समान टोकन शामिल हैं। यह परिभाषा केंद्र सरकार द्वारा निर्दिष्ट अन्य डिजिटल संपत्तियों को शामिल करने की अनुमति देती है। VDA को इलेक्ट्रॉनिक रूप से स्थानांतरित, संग्रहीत या व्यापार किया जा सकता है, यह वित्तीय लेनदेन या निवेश में मूल्य के भंडार या खाते की एक यूनिट जैसे कार्य प्रदान करता है।

ट्रांसफर

वर्चुअल डिजिटल एसेट्स (VDA) के संदर्भ में, “ट्रांसफर” में बिक्री, विनिमय, त्याग, अधिकारों की समाप्ति, अनिवार्य अधिग्रहण, स्टॉक-इन-ट्रेड में परिवर्तन, और अचल संपत्ति से संबंधित कब्जे के लेनदेन के साथ-साथ संपत्ति हस्तांतरण या उपभोग को लागू करने वाले विभिन्न लेनदेन जैसे कार्य शामिल हैं।

हानि का मुआवज़ा

“हानि का मुआवज़ा” आय के एक स्रोत से होने वाले नुकसान को आय के दूसरे सोर्स से अर्जित लाभ में व्यवस्थित करने के कार्य के संबंध में है। हालाँकि, वर्चुअल डिजिटल एसेट्स को ट्रांसफर करने से होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए कोई प्रावधान नहीं है, जो दर्शाता है कि इस श्रेणी में होने वाले नुकसान की भरपाई आय के अन्य स्रोतों से होने वाले मुनाफे से नहीं की जा सकती है।

हानि को आगे बढ़ाना

“हानि को आगे बढ़ाना” घाटे को भविष्य के मुनाफे के साथ व्यवस्थित करने के लिए वर्तमान वित्तीय वर्ष से अगले वित्तीय वर्ष तक आगे बढ़ाने के कार्य के संबंध में है। हालाँकि, विशेष रूप से वर्चुअल डिजिटल एसेट्स (VDA) से संबंधित घाटे को आगे बढ़ाने का कोई प्रावधान नहीं है। यह दर्शाता है कि VDA से होने वाले नुकसान को भविष्य के मुनाफे से भरपाई करने के लिए आगे नहीं बढ़ाया जा सकता है।

पूंजीगत लाभ

“पूंजीगत लाभ” किसी पूंजीगत संपत्ति के ट्रांसफर से होने वाला लाभ या वृद्धि है और “पूंजीगत लाभ” हेड के तहत कराधान के अधीन है।

अधिग्रहण की लागत

वर्चुअल डिजिटल एसेट्स (VDA) के लिए “अधिग्रहण की लागत” पूंजीगत संपत्ति प्राप्त करने में किए गए खर्चों से संबंधित है। अधिग्रहण की लागत की गणना आयकर अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार है।

उचित बाजार मूल्य

किसी पूंजीगत परिसंपत्ति के लिए “उचित बाजार मूल्य” वह कीमत है जो संबंधित तारीख पर ओपन मार्केट में प्राप्त होगी। यदि यह कीमत सुनिश्चित नहीं की जा सकती है, तो यह आयकर अधिनियम के तहत नियमों के अनुसार निर्धारित की जाती है।

NFT

एक “नॉन-फंजीबल टोकन (NFT)” को एक डिजिटल संपत्ति के रूप में परिभाषित किया गया है जैसा कि केंद्र सरकार द्वारा आधिकारिक राजपत्र में एक आधिकारिक अधिसूचना के माध्यम से निर्दिष्ट किया गया है।

डिजिटल रूपए

डिजिटल रुपए (e₹), जिसे eINR या E-Rupee भी कहा जाता है, भारतीय रुपये का एक प्रतीकात्मक डिजिटल रूप है। इसे भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) द्वारा केंद्रीय बैंक डिजिटल मुद्रा (CBDC) के रूप में जारी किया जाता है, जो ब्लॉकचेन डिस्ट्रीब्यूटेड-लेजर तकनीक का लाभ उठाता है।

FIU

भारत की फाइनेंशियल इंटेलिजेंस यूनिट (FIU-IND) एक केंद्रीय राष्ट्रीय एजेंसी है जो संदिग्ध वित्तीय लेनदेन से संबंधित जानकारी प्राप्त करने, उसे संसाधित करने, विश्लेषण करने, और प्रसार करने के लिए जिम्मेदार है। FIU-IND मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवाद के वित्तपोषण के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय खुफिया, जांच और एनफोर्समेंट एजेंसियों के प्रयासों को समन्वित करने और बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह एक स्वतंत्र निकाय के रूप में कार्य करता है जो सीधे आर्थिक खुफिया परिषद (EIC) को रिपोर्ट करता है, जिसकी अध्यक्षता वित्त मंत्री करते हैं।

क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज

“क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज” एक ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म है जो विभिन्न क्रिप्टोकरेंसी की खरीद, बिक्री और व्यापार की सुविधा प्रदान करता है। यह एक मध्यस्थ के रूप में कार्य करता है, खरीदारों और विक्रेताओं को आपस में जोड़ता है, और बिटकॉइन, इथेरियम, और अन्य डिजिटल मुद्राओं के एक्सचेंज के लिए एक मार्केट प्रदान करता है। उपयोगकर्ता मौजूदा मार्केट कीमतों के आधार पर क्रिप्टोकरेंसी का व्यापार करने के लिए इन प्लेटफ़ॉर्म पर अपना अकाउंट बना सकते हैं।

DeFi

विकेंद्रीकृत वित्त, केंद्रीकृत मध्यस्थों के बिना पारंपरिक वित्तीय सेवाओं को फिर से बनाने के लिए ब्लॉकचेन का लाभ उठाने वाले एक बढ़ते पारिस्थितिकी तंत्र का प्रतिनिधित्व करता है। DeFi अनुप्रयोगों में ऋण देना, उधार लेना, और विकेंद्रीकृत विनिमय शामिल हैं।

ICO

ICO (इनिशियल कॉइन ऑफरिंग) धन जुटाने का एक तरीका है जहां क्रिप्टोकरेंसी प्रोजेक्ट्स स्थापित क्रिप्टोकरेंसी के बदले निवेशकों को टोकन जारी करते हैं। यह नए प्रोजेक्ट्स के लिए प्रारंभिक पूंजी सुरक्षित करने के साधन के रूप में कार्य करता है।

इन शब्दों को समझने से यह सुनिश्चित होगा कि आप क्रिप्टो को समझते हैं और बजट के बाद भी क्रिप्टो विशिष्ट समाचार रिपोर्ट और आर्टिकल्स पढ़ने पर यह आपके लिए उपयोगी होगा।

वर्चुअल डिजिटल एसेट उद्योग तेजी से बढ़ रहा है और धीरे-धीरे मेनस्ट्रीम मार्केट में अपनी उपस्थिति दर्ज करना शुरू कर देगा। इसके बारे में प्रारंभिक जानकारी प्राप्त करना फायदेमंद होगा।

LEAVE A REPLY