लॉकडाउन में लगातार 51 दिन तक 1200 लोगों का खाना बनवाने और बंटवाने वाले कार्यकर्ताओं को पार्षद ने किया सम्मानित

0
663

Today Express News / Report / Ajay verma / Faridabad / फरीदाबाद ( 25 मई  ) सेहतपुर स्थिति ओम प्रकाश रैक्सवाल के कार्यालय पर ‘कोई भूखा न सोए’ मुहीम में लगातार 51वें दिन भी भोजन बनाने व बांटने के कार्य का आज समापन किया गया। जिन कार्यकर्ताओं ने अपनी व अपने परिवार की चिंता किए बिना एक योद्धा के रूप में दोपहर व शाम को दोनो समय का भोजन बनाने व बांटने का नेक कार्य किया उन सभी का पार्षद गीता रैक्सवाल व पूर्व पार्षद ओम प्रकाश रैक्सवाल ने माला व पटका से सम्मान किया व हृदय से धन्यवाद किया।

पूर्व पार्षद ओमप्रकाश रैक्सवाल  ने कहा कि जब लॉकडाउन हुआ तो किसी को भी कुछ समझ नहीं आ रहा था की ये कब तक चलेगा। अचानक  सब कुछ बंद हो गया। ऐसे हालत  बन गए की कोई पैसे से भी कुछ खरीदना चाहे तो भी जरुरत का सामान  नहीं मिल पा रहा था। उनके क्षेत्र में जो लोग रोज कमा कर खा रहे थे उनके सामने तो भूखे मरने की नौबत आ गई थी। लोग उनके घर और दफ्तर पहुंच कर राशन और भोजन की मांग कर रहे थे। उनसे इन लोगों की परेशानी देखी नहीं गई और उन्होंने तय किया की सभी लोगों को कम-से-कम दो समय का भोजन वो खुद उपलब्ध करवाएंगे। उन्होंने एक टीम बनाई और दोनों समय का भोजन बनाना शुरू किया। पूरे वार्ड में हर गली में उन लोगों की लिस्ट बनाई जिनके पास खाने को कुछ नहीं था। उन सभी की पहचान कर के उन्हें दोपहर और रात का खाना उपलब्ध कराया। ये काम बिलकुल भी संभव नहीं होता यदि ये कार्यकर्ता न होते जिन्होंने अपनी व अपने परिवार की चिंता किये बिना एक योद्धा के रूप में करीब 1200 लोगों के लिए  दोपहर व शाम दोनो समय का भोजन बनाने व बाँटने के पुनीत कार्य में पूरे 51  दिन तक डटे रहे।
 
इस मौके पर पार्षद गीता रैक्सवाल ने कहा कि लॉकडाउन के समय 1200 लोगों को सुबह और 1200 लोगों का रात का प्रतिदिन भोजन बनाना और बांटना किसी चुनौती से कम नहीं था। लेकिन कार्यकर्ताओं ने मिल-जुल कर कोरोना संकट के समय में भी तिगावं विधानसभा क्षेत्र की नहर पार की कॉलोनियों में रह रहे सभी लोगों का ध्यान रखा और जिन लोगों को पका हुए भोजन की जरूरत थी उन्हें पका हुआ भोजन और जिन्हे सूखे राशन की जरूरत थी उन्हें सूखा राशन बांटा गया। सभी कार्यकर्ताओं का वो तहे दिल से धन्यवाद करती हैं। उन्होंने कहा कि इन सभी कार्यकर्ताओं को नहर पार की जनता कई दशकों तक याद रखेगी क्योंकि कोरोना संकट में किया गया इनका कार्य अतुलनीय है। इस मौके पर मुकेश झा, प्रमोद कुमार, सुशील पाठक, जगवीर सिंह, संजय अग्रवाल, इंदर सिंह, विवेक मिश्रा, विशाल, लोकेश शर्मा, प्रेम सिंह चौहान, सतीश मंगला, वीरेन्द्र कुमार, राजेश शर्मा, रामकिशन आदि कार्याकर्ताओं को एक संक्षिप्त समाहरो में फूल-माला और पटका से सम्मानित किया गया।

LEAVE A REPLY