हरियाणा के बाद इनसो ने दिल्ली और पंजाब यूनिवर्सिटी में भी उठाया परीक्षा रद्द करने का मुद्दा

0
1108

Today Express News/ Ajay Verma / चंडीगढ़/दिल्ली, 26 जून। छात्र संगठन इंडियन नेशनल स्टूडेंट्स ऑर्गनाइजेशन (INSO) कोरोना काल में छात्रों के मुद्दों को लेकर लगातार सक्रिय है। इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने हरियाणा के अंतिम वर्ष की परीक्षाएं रद्द करने को लेकर आवाज बुलंद कीजिसके बाद हरियाणा सरकार ने नोटिफिकेशन जारी कर हरियाणा में पढ़ने वाले सभी विद्यार्थियों को बिना परीक्षाएं पास करने की घोषणा की। अब इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने दिल्ली विश्वविद्यालय व पंजाब विश्वविद्यालय के छात्रों को भी बिना परीक्षा पास करने का मुद्दा उठाया है। शुक्रवार को दिग्विजय चौटाला ने देश के उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडूमानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक व दोनों विश्वविद्यालयों के उपकुलपतियों को पत्र लिख कर छात्रों को आंतरिक मूल्यांकन व पिछले परिणाम के आधार पर पास करने का आग्रह किया है।

पत्र के जरिये दिग्विजय चौटाला ने कहा कि दिल्ली विश्वविद्यालय प्रशासन ने अंतिम वर्ष की परीक्षाएं  ऑनलाइन ओपन बुक माध्यम से कराने का फैसला लिया है और पीयू प्रशासन पारंपरिक तरीके से परीक्षाएं कराने की तैयारी कर रहा है। उन्होंने आगे कहा कि जबकि मार्च से ही डीयू व पीयू के विद्यार्थी अपने घर पर है और न तो विद्यार्थियों के पास पुस्तकें व अध्ययन सामग्री है और न ही विद्यार्थी ऑनलाइन कक्षा के माध्यम से अपना सिलेबस पूरा कर पाए है। उन्होंने कहा कि छात्रों के पास ऑनलाइन कक्षा व परीक्षा के लिए पर्याप्त संसाधन उपलब्ध नहीं हैं। दिग्विजय ने कहा कि अन्तिम वर्ष के छात्रों पर आगे की पढ़ाई के लिए प्रवेश परीक्षा का अतिरिक्त दबाव है। ऐसे में अगर डीयू व पीयू में परीक्षाएं आयोजित की गई तो इससे विद्यार्थियों की सेहतपढ़ाई व भविष्य पर काफी बुरा असर पड़ सकता है। इनसो राष्ट्रीय अध्यक्ष ने आग्रह करते हुए कहा कि ऐसे में विद्यार्थियों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए डीयू व पीयू के सभी विद्यार्थियों को बिना परीक्षा आंतरिक मूल्यांकन व पिछले परिणाम के आधार पर पास कर विद्यार्थियों को राहत दी जाए।

गौरतलब है कि डीयू व पीयू में बड़ी संख्या में हरियाणा से जुड़े छात्र पढ़ते हैं। इनसो डीयू व पीयू में लगातार सक्रिय है और इनसे संबंधित कॉलेजों में कई बार छात्र संघ का चुनाव जीता है। वहीं गत वर्ष डीयू में भी इनसो ने लॉ फैकल्टी का अहम चुनाव जीतने में भी सफलता हासिल की थी। ऐसे में दिग्विजय चौटाला के परीक्षाएं रद्द कराने के लिए मोर्चा संभालने के बाद छात्रों को डीयू व पीयू में भी अंतिम वर्ष समेत सभी परीक्षाएं रद्द होने की उम्मीद बंधी है।

LEAVE A REPLY