कोविड-19 के संक्रमण को रोकने के लिए इंसीडेंट कमांडर अपने एरिया में स्थित लोकल कमेटियों को ट्रेनिंग दें : उपायुक्त यशपाल

0
753

Today Express News / Ajay Verma / फरीदाबाद, 13 जून। उपायुक्त यशपाल ने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण को रोकने के लिए सरकार की ओर से जारी हिदायतों को जिला में प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए सभी आठों इंसीडेंट कमांडर अपने एरिया में स्थित लोकल कमेटियों को ट्रेनिंग दें तथा उन्हें हर प्रकार से मजबूत बनाएं तथा सभी कमेटियों के सदस्यों की संख्या पूरी की जाए। उपायुक्त ने शनिवार को लघु सचिवालय के सभागार में सभी इंसीडेंट कमांडर की बैठक में कहा कि पूरे जिले को आठ हिस्सों में बांटकर इंसीडेंट कमांडर लगाए गए हैं। अब सभी इंसीडेंट कमांडर ही अपने एरिया में कोरोना से संबंधित सभी कार्य व उचित प्रबंध सुनिश्चित करेंगे।

उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी अपने अपने एरिया में सरकारी भवनों, अस्पतालों, प्राइवेट स्थानों व भवनों को चिन्हित व सूचीबद्ध कर लें। लोगों को अपने एरिया में जागरूक व शिक्षित करें तथा उन्हें बताएं कि वे क्या करें व क्या न करें। महामारी अधिनियम के तहत जारी हिदायतों की पालना न करने पर चालान काटे जाए। जो व्यक्ति बिना मास्क लगाए बाहर आ रहे, उनके भी चालान किए जाएं। उन्होंने कहा कि कंटेनमेंट जोन बनाने, मरीज को कोरेंटाइन करने, होम आइसोलेट मरीज संपर्क करने तथा मरीज को कोरेंटाइन पीरियड के बाद रिलीज करने, सिम्टैमेटिक मरीज को कोविड केयर संेटर या अस्पताल में पहुंचाने संबंधी सभी कार्य किए जाएं।

पाजीटिव मरीजों को मैसेज से भी सावधानी व इलाज संबंधी जानकारी दी जाएगी। बिना सिम्टम वाले मरीज को 10 दिन के बाद कोरेंटाइन पीरियड से बाहर कर दें। कंटेनमेंट जोन को आखरी पाॅजीटिव मरीज के 28 दिन पूरे होने पर डी-नोटिफाइ कर दें। सभी अधिकारी विभिन्न सामान के मूल्य की उचित दर निर्धारित कर लें। उन्होंने कहा कि सभी इंसीडेंट कमांडर अपने एरिया में कंट्रोल रूम स्थापित करें तथा इसके नंबर सार्वजनिक करें। आइसोलेट सूची को निरंतर अपडेट करते रहें। अपने एरिया में स्थित राशन डिपुओं की विजिट अवश्य करें। धार्मिक व सामाजिक संगठनों व एनजीओ की मदद लें तथा उनसे बड़ी संख्या में वालिंटियर मिलना संभव है। इस अवसर पर एसडीएम त्रिलोकचंद, अमित कुमार, पंकज सेतिया, एमसीएफ के संयुक्त आयुक्त वीरेंद्र चैधरी, एचएसवीपी के संपदा अधिकारी परमजीत चहल, सीटीएम बलिना भी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY