ला पिंक ने भारत में पहली बार स्किनकेयर कैटेगरी में माइक्रोप्‍लास्टिक से 100% मुक्‍त फार्मूलेशंस पेश किये

0
234

ला पिंक की श्रृंखला में अभी 17 प्रोडक्ट हैं, जो ब्राण्‍ड की ऑफिशियल वेबसाइट, अमेज़न और फ्लिपकार्ट पर ऑनलाइन और मध्‍यप्रदेश, पंजाब तथा हरियाणा में रिटेल स्‍टोर्स पर ऑफलाइन उपलब्‍ध हैं

टुडे एक्सप्रेस न्यूज़ / रिपोर्ट अजय वर्मा / 24 मई, 2023: ला पिंक ने भारत के सौंदर्य एवं स्किनकेयर उद्योग में क्रांति करते हुए देश में पहली बार माइक्रोप्‍लास्टिक से 100% मुक्‍त आधुनिक फार्मूलेशंस पेश किये हैं। ला पिंक के इन महत्‍वपूर्ण प्रोडक्ट्स को फ्रांस के विशेषज्ञों ने फ्रांस, यूएसए तथा स्विटज़रलैण्‍ड से आयात की गईं अनूठी और प्राकृतिक सामग्रियों से महीनों के शोध एवं विकास के बाद बनाया है।

एक अध्‍ययन के मुताबिक, माइक्रोप्‍लास्टिक्‍स त्‍वचा की देखभाल के प्रोडक्ट्स में मिलने वाले सबसे हानिकारक और आम घटकों में शामिल हैं। 10 में से 9 सौंदर्य प्रोडक्ट्स में माइक्रोप्‍लास्टिक्‍स होते हैं, जिनका इस्‍तेमाल अक्‍सर बाइंडिंग एजेंट्स के रूप में किया जाता है और जिन्‍हें इस्‍तेमाल करना असुरक्षित होता है। यह माइक्रोप्‍लास्टिक्‍स त्‍वचा पर जम भी जाते हैं और उसके छिद्र बंद कर देते हैं और हमारे द्वारा लगाये जाने वाले प्रोडक्ट्स में मौजूद सक्षम और जरूरी सामग्रियों को सोखने भी नहीं देते हैं। ला पिंक अपनी प्रोडक्ट श्रृंखला में माइक्रोप्‍लास्टिक से 100% मुक्‍त फार्मूलेशंस बनाने के लिये पौधों से प्राप्‍त होने वाले बाइंडिंग एजेंट्स का इस्‍तेमाल कर त्‍वचा के लिये सुरक्षित सौंदर्य की पेशकश करने पर केन्द्रित है।

भारत के विशाल और तेजी से बढ़ रहे सौंदर्य उद्योग का और भी विस्‍तार करने की सोच रहे ला पिंक के अनूठे प्रोडक्ट्स में एक कमाल की सामग्री, सफेद हल्‍दी है। यह एक शक्तिशाली सामग्री है, जो अपने जलनरोधी और रोगाणुरोधी गुणों के लिये जाना जाता है। सफेद हल्‍दी हाइपरपिगमेंटेशन को कम करने के लिये सक्रियता से काम करती है, प्राकृतिक एक्‍सफोलियेंट और प्राकृतिक मॉइश्‍चराइजर भी है । यह आपकी त्‍वचा को चमकदार और गोरा बनाने में भी मदद करती है और आपको चमकदार एवं जवां त्‍वचा देती है।

ला पिंक के संस्‍थापक नितिन जैन ने कहा, “ऐसे वक्‍त में, जब लगभग पूरी दुनिया सल्‍फेट और पैराबेन से रहित प्रोडक्ट चाहती है, लेकिन मइक्रोप्लास्टिक के बारे में कोई बात ही नहीं करता । यह अच्‍छा है कि उपभोक्‍ता अपने द्वारा इस्‍तेमाल होने वाले ब्राण्‍ड्स, सामग्रियों और ब्राण्‍ड की नीतियों पर ज्‍यादा जागरूक और शिक्षित हैं, लेकिन हमें त्‍वचा की देखभाल के प्रोडक्ट्स में माइक्रोप्‍लास्टिक्‍स की मौजूदगी पर ज्‍यादा रोशनी डालने की जरूरत है । ला पिंक में हम यह सुनिश्चित करने का प्रयास करते हैं कि हमारा हर प्रोडक्ट माइक्रोप्‍लास्टिक्‍स से 100% मुक्‍त हो, पैराबेन/सल्‍फेट/एसएलएस से मुक्‍त हो, वीगन हो, त्‍वचा रोग विज्ञान के अनुसार परखा गया हो, क्रूरता से मुक्‍त हो और एफडीए से अनुमोदित हो। हमारा उद्देश्‍य उपभोक्‍ताओं को ज्‍यादा से ज्‍यादा लाभ पहुंचाने के साथ त्‍वचा की देखभाल के लिये यथासंभव सर्वश्रेष्‍ठ तरीके से उचित दाम वाले समाधान प्रदान करना है। हम महीनों तक हुए शोध और नवाचार के बाद बाजार में कदम रखते हुए उत्साहित हैं और हमें विश्‍वास है कि हमारे प्रोडक्ट उपभोक्‍ताओं के बीच लोकप्रिय होंगे।”

ला पिंक के लक्षित ग्राहक 18 से 35 साल तक की उम्र के लोग हैं और इसकी श्रृंखला में अभी त्‍वचा की देखभाल के 17 प्रोडक्ट हैं और य‍ह ब्राण्‍ड आने वाले महीनों में हेयर और पर्सनल केयर में और भी प्रोडक्ट लॉन्‍च करेगा। इस ब्राण्‍ड के प्रोडक्ट इसकी ऑफिशियल वेबसाइट, अमेज़न और फ्लिपकार्ट पर ऑनलाइन और मध्‍यप्रदेश, पंजाब तथा हरियाणा में रिटेल स्‍टोर्स पर उपलब्‍ध हैं। ब्राण्‍ड जल्‍दी ही दूसरे सभी मार्केटप्‍लेसेस और भौगोलिक क्षेत्रों में भी लॉन्‍च होगा।

LEAVE A REPLY