मानव रचना और पीएसजी संसद भवन में राष्ट्रीय पर्यावरण युवा संसद के पुरस्कार और समापन सत्र की करेंगे मेजबानी

0
692
Manav Rachna pp

टुडे एक्सप्रेस न्यूज़ । अजय वर्मा  | फरीदाबाद, 14 अप्रैल, 2022: मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्टडीज (नेशनल होस्ट यूनिवर्सिटी) और पर्यावरण संरक्षण गतिविधि इस वर्ष राष्ट्रीय पर्यावरण युवा संसद (एनईवाईपी 2022) के पुरस्कार और समापन सत्र की संसद भवन में मेज़बानी करेंगे। इस वर्ष भारत भर के 156+ विश्वविद्यालयों के 3000 से अधिक छात्र इसमें भाग ले रहे हैं।

एनईवाईपी 2022 की थीम ‘पर्यावरण चेतना- पर्यावरण और स्थिरता’ है और 16 अप्रैल, 2022 को होने वाला पुरस्कार और समापन सत्र संसद भवन, नई दिल्ली में होगा।

श्री ओम बिरला जी (माननीय लोकसभा अध्यक्ष), भारतीय संसद मुख्य अतिथि के रूप में अध्यक्षता करेंगे

गेस्ट ऑफ़ ऑनर: श्री भूपेंद्र यादव जी, माननीय केंद्रीय कैबिनेट मंत्री, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, भारत सरकार और श्री सावजी ढोलकिया जी, पद्म श्री और पूर्व सचिव, लोकसभा

श्री उत्पल कुमार सिंह, महासचिव, लोकसभा द्वारा वेलकम एड्रेस दिया जाएगा

मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्टडीज नेशनल होस्ट यूनिवर्सिटी है

आर्य चावड़ा, एक 12 वर्षीय पर्यावरण योद्धा और कौटिल्य पंडित, गूगल बॉय होंगे स्पेशल गेस्ट

यह खबर भी पढ़े – मानव रचना ने की तीन दिवसीय अखिल भारतीय अंतर-विश्वविद्यालय शॉटगन शूटिंग चैंपियनशिप की मेजबानी

एनईवाईपी 2022 के सभी प्रतिभागी और पर्यावरण नोडल अधिकारी 15 अप्रैल को मानव रचना परिसर पहुंचेंगे और समापन सत्र तक वहीं रहेंगे। उसी दिन, वे मॉक-संसद सत्र में हिस्सा लेंगे। इसके बाद मानव रचना और पर्यावरण संरक्षण गतिविधि के वरिष्ठ गणमान्य व्यक्ति उन्हें सम्बोधित करेंगे और 16 अप्रैल, 2022 का कार्यक्रम जो संसद भवन, नई दिल्ली में होने वाला है, उसके बारे में बताएंगे। 15 अप्रैल की शाम को एक सांस्कृतिक प्रोग्राम का आयोजन भी किया गया है।

16 अप्रैल को, संसद भवन, नई दिल्ली में ट्रेजरी और विपक्षी बेंच के बीच में डिबेट होगी, उसके बाद पुरस्कार और समापन सत्र होगा जिसमें मुख्य अतिथि, सम्मानित अतिथि और विशिष्ट अतिथि उपस्थित होंगे।

पर्यावरण संरक्षण गतिविधि (PSG) के बारे में: PSG एक अखिल भारतीय समूह है जो मानव बलों द्वारा पर्यावरण दुरुपयोग के खिलाफ पर्यावरण की रक्षा, विश्लेषण और निगरानी के लिए समर्पित है। समूह का उद्देश्य एक ईको-फ्रेंडली पर्यावरण के निर्माण पर ध्यान केंद्रित करना है, जहां पेड़ लगाने, जल संरक्षण और सम्मान और सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट के बारे में जागरूकता फैलाना है | पर्यावरण संरक्षण गतिविधि ने देश के सभी शैक्षणिक संस्थानों को एक साथ लाने की पहल की है ताकि “कल के लिए युवा” का निर्माण किया जा सके जो ‘वसुंधरा’ के प्रति संवेदनशील हों।

मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्टडीज (MRIIRS) के बारे में: मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्टडीज (MRIIRS, पूर्व में MRIU), यूजीसी अधिनियम, 1956 की धारा 3 के तहत डीम्ड-टू-बी-यूनिवर्सिटी, NAAC से ‘ए’ ग्रेड मान्यता प्राप्त है। इसे टीचिंग, एम्प्लॉयबिलिटी, एकेडमिक डेवलपमेंट, इंक्लूसिवनेस, फैसिलिटीज और सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी के लिए 5-स्टार क्यूएस रेटिंग से नवाजा गया है। इसे एनआईआरएफ ‘इंडिया रैंकिंग 2021’ में भी रेट किया गया है: डेंटल – रैंक 39, इंजीनियरिंग – रैंक 118, यूनिवर्सिटी – रैंक बैंड 101-150। मानव रचना को हाल ही में भारत के माननीय राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्रीय खेल प्रोत्साहन पुरस्कार 2021 से सम्मानित किया गया है।

LEAVE A REPLY