राजकुमार राव की इको फ़्रेंडली मूर्तियाँ: गणपति उत्सव मनाने का एक बेमिसाल और जिम्मेदार तरीका!

0
104

टुडे  एक्सप्रेस न्यूज़। रिपोर्ट मोक्ष वर्मा। गणेश चतुर्थी त्यौहार का आगमन जल्द ही होने वाला है। इसी बीच हमारे बी टाउन सेलेब्स भी गणपति महोत्सव को सेलिब्रेट करने की तैयारियां कर रहे हैं। वहीं बॉलीवुड के बेहतरीन कलाकारों में से एक, जिन्होंने प्रीतम विद्रोही, विक्की और न्यूटन बनकर हमारा खूब मनोरंजन किया है, दर्शकों और क्रिटिक्स दोनों के चहिते राजकुमार राव इको फ़्रेंडली गणपति बनाने में एक ट्रेंडसेटर के रूप में उभरे हैं। एक्टर हर वर्ष अपनी गणपति की मूर्ति को ऐसे सामग्रियों से बनाते और सजाते हैं, जो पर्यावरण अनुकूल हो। एक्टर के इस विचारपूर्ण कार्य के माध्यम से पर्यावरण और समाज के प्रति उनकी प्रतिबद्धता प्रदर्शित होती है।

हाल ही में एक इंटरव्यू में राजकुमार राव ने कहा, “मैं हर साल गेहूं के आटे से अपने हाथों से गणपति की मूर्ति बनाता हूं। बहुत मज़ा आता है। मैं राजमा बीन्स का उपयोग करके आंखें बनाता हूं और दाल के साथ अन्य पदार्थों का उपयोग करके आभूषण बनाता हूं। फिर मैं उन्हें हल्दी से रंगता हूं जिससे वे बहुत सुंदर लगते हैं।’

बायोडिग्रेडेबल सामग्रियों और प्राकृतिक रंगों का उपयोग करके राव अपने उत्सवों के पर्यावरणीय दुष्प्रभाव को कम करते हैं। उनका सरल लेकिन प्रभावशाली भाव हर किसी को जश्न मनाने के लिए स्थायी तरीके अपनाने के लिए प्रोत्साहित करता है। अपने तरीकों को साझा करके राज उज्ज्वल भविष्य के निर्माण में परंपराओं का सम्मान करने के महत्व के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देते हैं।

पर्यावरण-अनुकूल गणपति मूर्तियों को तैयार करने का राजकुमार राव का समर्पण पर्यावरण का समर्थन करता है। बायोडिग्रेडेबल सामग्रियों से मूर्तियां बनाने की उनकी पसंद प्रकृति के संरक्षण और दूसरों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित करने की उनकी वचनबद्धता को दर्शाती है।

LEAVE A REPLY