रेड बुल स्‍पॉटलाइट के फाइनलिस्‍ट्स छह भागों की नई सीरीज में टाइटल के लिए करेंगे मुकाबला

0
937
Red Bull Spotlight finalists will compete for the title in the new series of six parts

Today Express News | Ajay verma | भारत के सर्वश्रेष्‍ठ उभरते रैपर्स को ढूंढकर उनका करियर संवारने के लिए रेड बुल स्‍पॉटलाइट एक देशव्‍यापी टैलेंट खोज अभियान है, जिसकी वापसी पिछले साल के शुरुआती महीनों में हुई थी और जिसके क्‍वालिफायर्स देश के 15 शहरों— मुंबई, दिल्‍ली, बेंगलुरु, गुवाहाटी, हैदराबाद, चंडीगढ़, कोच्चि, इंदौर आदि के सिटी के थे। इन क्वालिफायर्स ने एक वर्चुअल मुकाबले में एक-दूसरे का सामना किया था, लेकिन उनमें से महज आठ ही आगे बढ़ सके थे। लेकिन, चेन्‍नई से ए-गान, बेंगलुरु से लाउड साइलेंस, कोलकाता से एमसी हेडशॉट, चंडीगढ़ से सुपरमानिक, नोएडा से अलबेला, भुवनेश्‍वर से राइमिंग मैन, गोवा से ऋषि गोसावी और अहमदाबाद से सियाही जैसे ये आठ फाइनालिस्ट रैपर्स अब छह भागों की एक नई सीरीज में आपस में मुकाबला कर रहे हैं, जो 2 अप्रैल को एमएक्‍स प्‍लेयर पर फ्री में स्‍ट्रीम होगी और अंत में किसी एक को सर्वश्रेष्ठ रैपर के खिताब से नवाजा जाएगा। विजेता को फुल-लेंथ एलबम एवं म्‍यूजिक वीडियो में काम करने के साथ इनकी रिलीज एवं टूरिंग में सहयोग आदि का भी मौका मिलेगा।

यह सीरीज रेड बुल मीडिया हाउस और एमएक्‍स प्‍लेयर ने सुपारी स्‍टूडियोज के साथ मिलकर बनाया है जिसका निर्देशन निशा वासुदेवन ने किया है, जबकि इस सीरीज की मेजबानी दिल्‍ली की जोड़ी सीधेमौत ने की। बता दें कि फाइनालिस्‍ट्स रैपर ने इंडियन हिप-हॉप के सर्वश्रेष्‍ठ सितारों सोफिया अशरफ, नाइज़ी, डोपीडेलिक्‍ज़, सेज़ ऑन द बीट, और डेविल के संरक्षण में एक सप्‍ताह बिताते हुए वर्कशॉप्‍स और विशेष सेशन में भाग लेकर चुनौतियों का सामना किया। और, सप्‍ताह के अंत में आठों रैपर्स फिनाले में एक-दूसरे से भिड़े, जिसे फ्रिज़ोन प्रोडक्शंस ने प्रोड्यूस किया था।

इस शो के बारे में मेंटॉर और फाइनल के जज मुंबई के रैपर डी एमसी ने बताया, ‘अगली पीढ़ी के रैपर्स को अपना सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन करते देखना बेहतरीन अनुभव रहा। सभी रैपर्स जबर्दस्‍त क्षमता वाले एवं प्रतिभाशाली हैं। यह अलग बात है कि विजेता कोई एक ही बन पाता है। लेकिन, यह कहने में हिचक नहीं कि इस यात्रा ने शो में शामिल सभी रैपर्स की कला की बेहतरी लाने के लिए उनमें व्यापक बदलाव लाया है और मुझे उम्‍मीद है कि वे भी इस महत्‍वपूर्ण बदलाव को स्वीकार करेंगे। रेड बुल स्‍पॉटलाइट जैसा मंच ऐसे युवा विजेताओं के लिए उम्‍मीद की किरण है। मेरे हिसाब से ऐसा कोई दूसरा शो नहीं है, जो अगली पीढ़ी को सिखाने और कलात्मक ज्ञान देने के लिए इतना फिक्रमंद है।

देश में हिप-हॉप के सबसे बड़े नामों में से एक और फिनाले के फेलो जज डिवाइन ने कहा, ‘फिनाले में प्रतिभा की व्‍यापकता देखकर मुझे सुखद आश्‍चर्य हुआ। रेड बुल कई अलग फॉर्मेट्स में संगीत और संस्‍कृति को सहयोग देता आ रहा है, ताकि प्रतिभा को ढूंढने में मदद मिल सके और उनका स्‍थायी करियर बनाने की दिशा में काम हो सके।

LEAVE A REPLY