स्ट्रोक के 3 में से 1 मरीज को लम्बे समय तक स्वास्थ्य जटिलताओं का सामना करना पड़ता है – न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. संजय पांडे

0
197
डॉ. संजय पांडे, एचओडी, न्यूरोलॉजी विभाग, अमृता अस्पताल, फरीदाबाद

टुडे एक्सप्रेस न्यूज़।  रिपोर्ट अजय वर्मा। फरीदाबाद, 27 अक्टूबर – फरीदाबाद स्थित अमृता अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग के प्रमूख डॉ संजय पांडे ने बताया कि स्ट्रोक के मरीज को लम्बे समय तक स्वास्थ्य जटिलताओं का सामना करना पड़ता है जैसे कि कंपन, डिस्टोनिया, पार्किंसंस, मिर्गी, मूवमेंट डिसऑरडर , अवसाद, संज्ञानात्मक चुनौती हो सकती है और सभी स्ट्रोक रोगियों में से एक तिहाई इन स्वास्थ्य समस्याओं का शिकार होते हैं.

अध्ययनों से पता चलता है कि स्ट्रोक विकसित देशों में मृत्यु का तीसरा सबसे आम कारण है और जब गैर-संचारी रोगों के कारण होने वाली मौतों और विकलांगताओं की बात आती है तो विकासशील देशों में भी स्ट्रोक मृत्यु का प्रमुख कारकों में से एक बना हुआ है। जबकि अधिकांश स्वास्थ्य सेवा प्रदाता तीव्र स्ट्रोक की गंभीरता पर ध्यान केंद्रित करते हैं, वे अक्सर ऐसे स्ट्रोक के लम्बे समय तक स्वास्थ्य प्रभावों की ओर ध्यान नहीं दे पाते हैं।

इस बारे में बात करते हुए डॉ संजय पांडे ने कहा, “स्ट्रोक के अधिकांश मरीज़ मिर्गी से गुजरते हैं, यह स्ट्रोक के बाद होने वाले भयानक मूवमेंट विकार हैं जो 10-15% की चौंका देने वाली दर के रूप में उभरते हैं। स्ट्रोक के बाद की मिर्गी 10-12% मरीज को होता है, जबकि स्ट्रोक के बाद का अवसाद 5-9% % मरीज को होता है अफसोस की बात है कि स्ट्रोक से बचे 50% लोगों को स्ट्रोक के बाद की ऐसी जटिलताओं का पता नहीं चल पाता है।’

डॉ पांडे ने आगे कहा, “स्ट्रोक के बाद की मिर्गी, चलने-फिरने संबंधी विकार, पुराना दर्द और पैरालाइसिस सहित दीर्घकालिक परिणाम, किसी ना किसी रूप मै जीवन की गुणवत्ता को महत्वपूर्ण रूप से खराब कर देते हैं। जोड़ों की विकृति, चेहरे की विषमता, सिकुड़न और घाव भी आम हैं। स्ट्रोक का असर रोगी के मानसिक स्वास्थ्य पर भी पड़ता है – चिंता, अवसाद, याददाश्त में कमी और एकाग्रता में कठिनाई के रूप में हो सकता है। कुछ मामलों में, व्यक्तियों में वेसकुलर डिमेंशिया भी विकसित हो सकता है, जो अल्जाइमर रोग की तरह प्रकट हो सकता है। स्ट्रोक से उत्पन्न होने वाली चुनौतियां खाने, नहाने और रोजमर्रा की गतिविधियों जैसे बुनियादी कार्यों को बाधित कर सकती हैं, जिसके लिए व्यक्ति को देखभाल करने वालों पर निर्भर रहना पड़ता है। स्ट्रोक के दीर्घकालिक प्रभाव से निर्भरता की स्थायी स्थिति पैदा हो सकती है और, कई मामलों में, रोजगार का नुकसान हो सकता है।

हालांकि, स्ट्रोक के रोगियों के लिए अभी भी आशा बनी हुई है क्योंकि दीर्घकालिक प्रभावों का इलाज फिजियोथेरेपी और व्यावसायिक चिकित्सा से किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, बोटुलिनम टॉक्सिन इंजेक्शन ने स्ट्रोक के बाद की ऐंठन और डिस्टोनिया वाले रोगियों की मदद की है। वे रोगियों के समग्र कार्यात्मक परिणाम में सुधार कर सकते हैं। इसके अलावा, बार-बार होने वाले स्ट्रोक के लिए रोकथाम की रणनीतियां हैं जो स्ट्रोक के दीर्घकालिक प्रभाव को कम करने में मदद कर सकती हैं

LEAVE A REPLY