इंडियनऑयल द्वारा ‘टीबी मुक्त इंडियनऑयल परिवार अभियान’ की शुरुआत 2025 तक तपेदिक उन्मूलन के लिए लगभग 7 लाख हितधारकों तक पहुंचने का लक्ष्‍य

0
392
IndianOil launches TB Free IndianOil Parivar Campaign Aims to reach around 7 lakh stakeholders to eliminate tuberculosis by 2025

टुडे एक्सप्रेस न्यूज़ । रिपोर्ट अजय वर्मा। 22 नवंबर 2022, नई दिल्ली: इंडियनऑयल के अध्यक्ष श्री एस.एम. वैद्य ने आज ‘टीबी मुक्त इंडियनऑयल परिवार’ कार्यक्रम की शुरुआत की, जिसका उद्देश्य 2025 तक इंडियनऑयल परिवार से तपेदिक को खत्म करना है। यह प्रतिज्ञा भारत के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा सतत विकास लक्ष्य 2030 (एसडीजी) से पांच साल पहले 2025 तक भारत में टीबी का उन्‍मूलन करने के आह्वान के अनुरूप है। इंडियनऑयल के लगभग सात लाख हितधारक और उनके परिवार इस कार्यक्रम का हिस्सा होंगे, जिनमें कर्मचारी, ठेका कर्मचारी, फ्यूल स्टेशन कस्‍टमर अटेंडेंट, एलपीजी डिलीवरी कार्मिक और टैंक ट्रक दल शामिल होंगे। श्री वैद्य ने यह घोषणा आज कंपनी के कॉर्पोरेट कार्यालय में इंडियनऑयल के कार्यात्मक निदेशकों की उपस्थिति में की। इंडियनऑयल के कर्मचारियों की निगरानी और जांच की सुविधा के लिए एक ‘टीबी मुक्त इंडियनऑयल परिवार’ एप्लिकेशन भी लॉन्च किया गया था।

इंडियनऑयल देश भर में अपने सभी कार्मिकों की जांच करके, जागरूकता बढ़ाकर तथा कंपनी के डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की क्षमता बढ़ाकर, तपेदिक उन्मूलन कार्यस्थल नीति को लागू करेगा। इसका उद्देश्य राष्ट्रीय तपेदिक उन्मूलन कार्यक्रम को बढ़ावा देना है।

इस अवसर पर बोलते हुए, श्री एस.एम. वैद्य ने कहा, “क्षय रोग सार्वजनिक स्वास्थ्य संकट और स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए खतरा बना हुआ है, और भारत में इसका बढ़ता दायरा गंभीर चिंता का विषय है। हमारी स्वास्थ्य एवं सुरक्षा तथा एचआर टीमों ने हितधारकों तक चरणबद्ध तरीके से पहुंच बनाकर ‘टीबी मुक्त इंडियनऑयल’ लक्ष्‍य हासिल करने के लिए एक रूपरेखा तैयार की है। इंडियनऑयल अपने आप में एक लघु भारत है, जिसका सांस्कृतिक ताना-बाना विविध है और इसमें बड़ी संख्‍या में लोग शामिल हैं। इस प्रकार ‘टीबी मुक्त इंडियनऑयल’, ‘टीबी मुक्त भारत’ के राष्ट्रीय लक्ष्‍य को प्राप्त करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम होगा।

इंडियनऑयल द्वारा अपने कार्यों के अलावा तपेदिक के खिलाफ जोर-शोर से शुरू किए गए अभियान के बारे में बताते हुए श्री वैद्य ने कहा, “तेल एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय के तत्वावधान में, इंडियनऑयल, छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश की आबादी की जांच करने के लिए तपेदिक के खिलाफ भारत की लड़ाई में भी सहयोग दे रहा है। यह प्रयास ‘संरक्षण’ के हमारे मूल्य को मजबूती देगा , जो पिछले कई दशकों से इंडियनऑयल ब्रांड के लिए प्रेरक शक्ति बना हुआ है।”

इससे पहले, इंडियनऑयल के निदेशक (मानव संसाधन) श्री रंजन कुमार महापात्र ने कहा, “इंडियनऑयल ने ‘टीबी मुक्त इंडियनऑयल परिवार’ का लक्ष्‍य हासिल करने के लिए एक विस्तृत कार्यक्रम तैयार किया है। हम टीबी के खिलाफ लड़ाई में हर संभव प्रयास करने के लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के केंद्रीय टीबी प्रभाग के साथ मिलकर काम करेंगे।”

यह अभियान, इंडियनऑयल में क्षय रोग के बारे में जागरूकता बढ़ाने के अलावा, सबसे ज़्यादा प्रभावित होने वाली आबादी की पहचान करेगा । साथ ही जांच शिविर लगाने के साथ, प्रभावित समूहों की रोजगार क्षमता और आय को बनाए रखते हुए टीबी के उपचार में सहयोग करेगा। इंडियनऑयल अपने डॉक्टरों, पैरामेडिकल स्टाफ और नर्सों के लिए विशेष प्रशिक्षण और कार्यशालाएं भी आयोजित करेगा। इसके सुचारु कार्यान्‍वयन के लिए, जिला टीबी अधिकारियों का  सहयोग और  मार्गदर्शन लिया जाएगा ।

LEAVE A REPLY