मैरिंगो एशिया हॉस्पिटल्स फरीदाबाद में एनेस्थिसियोलॉजी विभाग ने लाइव यूएसजी गाइडेड रीजनल एनेस्थीसिया और हैंड्स ऑन वर्कशॉप का प्रदर्शन किया

0
446

टुडे एक्सप्रेस न्यूज़ / रिपोर्ट अजय वर्मा / फरीदाबाद: 30 अप्रैल 2023: मैरिंगो एशिया हॉस्पिटल्स फरीदाबाद में एनेस्थिसियोलॉजी विभाग ने देश के उत्तरी क्षेत्र के एनेस्थेसियोलॉजिस्ट और रेजिडेंट डॉक्टरों के लिए जानकारी साँझा करने के मंच के रूप में सीआईपीआरए, क्लिनिकल पर्ल्स ऑफ़ रीजनल एनेस्थीसिया कार्यशाला का आयोजन किया। इस कॉन्क्लेव को आईएसए हरियाणा के तत्वावधान में आईएसए फरीदाबाद के सहयोग से आयोजित किया गया और इसका उद्देश्य रीजनल एनेस्थीसिया पर लाइव अल्ट्रासाउंड-गाइडेड और हैंड्स-ऑन वर्कशॉप करना था। इस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि डॉ. सुरेश कुमार सिंघल, वरिष्ठ प्रोफेसर और विभागाध्यक्ष, पीजीआईएमएस, रोहतक और कई अन्य वरिष्ठ एनेस्थिसियोलॉजिस्ट ने भाग लिया।

इस लाइव अल्ट्रासाउंड-गाइडेड और हैंड्स-ऑन वर्कशॉप में फैकल्टी के रूप में डॉ. राजेश कुमार सिंह, डायरेक्टर और एचओडी, डिपार्टमेंट ऑफ एनेस्थिसियोलॉजी, मैरिंगो एशिया हॉस्पिटल्स फरीदाबाद, डॉ. मोहित गुप्ता, सीनियर कंसल्टेंट एनेस्थीसिया, मैरिंगो एशिया हॉस्पिटल्स फरीदाबाद, डॉ. मीनाक्षी अग्रवाल, सीनियर कंसल्टेंट एनेस्थीसिया, मैरिंगो एशिया हॉस्पिटल्स फरीदाबाद, डॉ गौरव धीर, कंसल्टेंट एनेस्थीसिया, मैरिंगो एशिया हॉस्पिटल्स फरीदाबाद, डॉ हर्षिता सिंह, कंसल्टेंट एनेस्थीसिया, मैरिंगो एशिया हॉस्पिटल्स फरीदाबाद, डॉ रोहित सिदाना, एसोसिएट कंसल्टेंट एनेस्थीसिया, मैरिंगो एशिया हॉस्पिटल्स फरीदाबाद, डॉ मेघा सोनी, असिस्टेंट प्रोफेसर, ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज फरीदाबाद, डॉ. मुकेश सेमप्ले, एसोसिएट डायरेक्टर एनेस्थीसिया, मेदांता मेडिसिटी, डॉ. दिवेश अरोड़ा, निदेशक एवं एचओडी, एशियन हॉस्पिटल फरीदाबाद, डॉ. राजीव गुप्ता, निदेशक एवं एचओडी, सर्वोदय हॉस्पिटल फरीदाबाद, और डॉ. निरुपमा बंसल, निदेशक प्रोफेसर, अल-फ्लाह स्कूल ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च सेंटर शामिल हुए।

लाइव कार्यशालाओं में ऊपरी अंग ब्लॉक, हर्निया ब्लॉक के लिए विभिन्न दृष्टिकोण, साइटिका नर्व (तंत्रिका) ब्लॉक, लम्बर प्लेक्सस ब्लॉक और अन्य चिकित्सा चुनौतियों के बीच निचले अंग ब्लॉक पर महत्वपूर्ण रीजनल एनेस्थीसिया तकनीकों का प्रदर्शन किया गया।

डॉ. राजेश कुमार सिंह, डायरेक्टर एवं एचओडी एनेस्थीसिया, मैरिंगो एशिया हॉस्पिटल्स फरीदाबाद ने कहा कि “सर्जिकल प्रक्रियाओं के दौरान नर्व ब्लॉक या न्यूरल ब्लॉकेड के नाम से मशहूर एक चिकित्सा प्रक्रिया की जाती है, जहां किसी विशिष्ट क्षेत्र में दर्द के संकेतों को मस्तिष्क तक पहुंचने से रोकने के लिए एक रीजनल एनेस्थेटिक दवा को एक तंत्रिका या नसों के एक समूह (प्लेक्सस) के आसपास इंजेक्ट किया जाता है। एनेस्थेसियोलॉजिस्ट ऑपरेशन से पहले, उसके दौरान और बाद में निरंतर चिकित्सा देखभाल प्रदान करता है ताकि सर्जनों को सर्जरी करने की अनुमति मिल सके; कभी-कभी बुजुर्ग लोगों या कई अन्य गंभीर बीमारियों से ग्रस्त रोगियों में जनरल एनेस्थीसिया देना इतना ज्यादा चुनौतीपूर्ण होता है कि मरीज की जान को काफी खतरा पैदा कर सकता है। यह नर्व कंडक्शन मार्गों को ब्लॉक करने के लिए है ताकि तरंगों को दर्द का अनुभव करने वाले सेंट्रल नर्व सिस्टम तक पहुंचने से रोका जा सके। एक पेरीफेरल नर्व ब्लॉक, या जनरल एनेस्थीसिया जिसे हमने प्रमुख रूप से प्रदर्शित किया है, ज्यादातर लोगों के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है, आमतौर पर ऑपरेशन के दौरान और बाद में सुरक्षित और प्रभावी रूप से दर्द से राहत देता है। ऑपरेशन के लिए सामान्य एनेस्थीसिया के बजाय एक नर्व ब्लॉक (तंत्रिका ब्लॉक) का उपयोग किया जा सकता है और बाद में दर्द से राहत का एक बेहतर रूप भी है। ऑपरेशन के आधार पर, इंजेक्शन आपके घुटने, टखने या पैर या आपके शरीर के किसी भी हिस्से की आपूर्ति करने वाली नसों के आसपास दिया जा सकता है।

डॉ राजेश कुमार सिंह ने कहा कि यूएसजी निर्देशित तकनीक एक अल्ट्रासाउंड मशीन और एक इकोजेनिक जांच का उपयोग करके की जाती है। अल्ट्रासाउंड-निर्देशित तंत्रिका ब्लॉक टार्गेटेड नर्व (गहरी और सतही), सुई, आसपास की रक्त धमनियां और अन्य शारीरिक संरचनाओं की स्थिति की वास्तविक समय की इमेजिंग की अनुमति देता है, जिससे प्रक्रिया की सटीकता और सुरक्षा बढ़ जाती है।

डॉ. अजय डोगरा, फैसिलिटी डायरेक्टर, मैरिंगो एशिया हॉस्पिटल्स, फरीदाबाद ने कहा कि सर्जिकल प्रक्रियाओं में विकल्प चुनने से लेकर शरीर के महत्वपूर्ण कार्यों की सुरक्षा और नियंत्रण तक में एनेस्थिसियोलॉजिस्ट की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। उनकी विशेषज्ञता प्री-ऑपरेटिव केयर, एनेस्थेटिक प्लानिंग, एडमिनिस्ट्रेशन और पोस्ट-ऑपरेटिव केयर तक फैली हुई है। वे सर्जनों को सर्जरी करने की अनुमति देने के लिए दर्द रोकने का बहुत अच्छा माहौल बनाते हैं; कभी-कभी इतनी ज्यादा चुनौती होती है कि मरीज की जान को काफी खतरा पैदा कर सकता है। उनके कौशल का संयोजन (कॉम्बिनेशन) उन्हें कैंसर जैसी ख़तरनाक बीमारी से पीड़ित रोगियों की देखभाल करने के लिए अदभुत रूप से योग्य बनाता है। ऑपरेशन थिएटर और उसके बाहर उनकी एक बड़ी जिम्मेदारी होती है।

अध्ययनों से पता चलता है कि देश भर में हर दिन लगभग 60,000 लोगों की रीजनल एनेस्थीसिया के तहत सर्जरी होती है। शल्य चिकित्सा तरीकों में आधुनिक तरक्की, मरीजों की लगातार बढ़ती जरूरतों और मिनिमल इनवेसिव प्रक्रियाओं के उभरने और बढ़ने के कारण आउट पेशेंट उपचार में वृद्धि हुई है। इसके परिणामस्वरूप बेहतरीन एनेस्थीसिया थेरेपी आई हैं। वर्तमान में, हम इंटेंसिव केयर यूनिट्स (गहन देखभाल इकाइयों) में बहुत ही जटिल सर्जरी और प्रक्रियाओं को देखते हैं जो कई घंटों तक चलती हैं, छोटी एवं शॉर्ट टर्म (अल्पकालिक) सर्जरी छोटी ओटी या ओपीडी सेट-अप में की जाती हैं। उम्र और वजन संबंधित चुनौतियों पर काबू पा लिया गया है और आज प्रीमैच्योर शिशुओं से लेकर कमजोर बुजुर्ग रोगियों तक लगभग किसी भी व्यक्ति के लिए एनेस्थीसिया आसान हो गया है। बेहतर परिणामों के साथ रोगी की देखभाल के लिए एनेस्थीसिया सुरक्षित भी है।

LEAVE A REPLY