एनएसयूआई के नाम पर गुंडागर्दी नहीं की जाएगी बर्दाश्त – प्रदीप धनखड़

0
500
nsui member
TODAY EXPRESS NEWS ( REPORT BY AJAY VERMA )  एनएसयूआई से जुड़े कुछ युवाओं द्वारा पिछले कुछ दिनों से संगठन के नियमों के खिलाफ गतिविधियां की जा रही हैं। इन्हें संगठन द्वारा बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। यह कहना है एनएसयूआई के प्रदेश उपाध्यक्ष प्रदीप धनखड़ का। शुक्रवार को एक ब्यान जारी कर प्रदीप धनखड़ ने कहा कि शुक्रवार दोहपर से उनके पास कई तरह के फोटो व वीडियो पहुंच रहे हैं, जिससे एनएसयूआई की छवि खराब हो रही है।

प्रदीप धनखड़ के अनुसार एनएसयूआई द्वारा हर साल चुनावी प्रक्रिया के बाद ही कॉलेजों, जिले व प्रदेश स्तर पर पदाधिकारियों का चयन किया जाता है। जबकि पिछले कुछ दिनों से एनएसयूआई के जिला अध्यक्ष द्वारा संगठन के नियमों को ताक पर रखकर कॉलेजों में पदाधिकारी नियुक्त किए जा रहे हैं। शुक्रवार को नेहरू कॉलेज पर भी इसके लिए कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। मुझे सूचना मिला है कि वहां पर इस कार्यक्रम को लेकर छात्रों के बीच काफी झगड़ा भी हुआ। इस विषय में वीडियो मेरे पास पहुंचे हैं। वहीं कुछ फोटो ऐसे भी मेरे पास आए हैं, जिनमें जिला अध्यक्ष के साथ बाईपास रोड पर गाड़ियों की छतों पर बैठकर बीयर पीते दिखाई दे रहे हैं। सूचना मिली है कि इस वजह से रोड पर जाम भी रहा और एक एंबुलेंस भी उसमें फंसी रही। यह पूरी तरह से अनुशासनहीनता है। इस घटना के बाद से मेरे पास लगातार फोन आ रहे हैं और कुछ स्वार्थी लोगों की करतूतों के लिए मुझे शर्मिंदा होना पड़ रहा है। प्रदीप धनखड़ ने कहा कि प्रदेश उपाध्यक्ष होने के नाते मुझे इस घटना पर खेद है। जिन भी लोगों द्वारा अनैतिक तरीके से पदों काे बांटा जा रहा है और इस तरह की अनैतिक घटनाएं कर रहे हैं, उनके खिलाफ संगठन द्वारा कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए हमने एनएसयूआई के उच्च पदाधिकारियों को भी लिख दिया है।


वहीं एनएसयूआई नेहरू कॉलेज के अध्यक्ष सन्नी बादल का कहना है कि वो चुनावी प्रक्रिया से एनएसयूआई के अध्यक्ष बने हैं। शुक्रवार को यहां पर संगठन के नियमों को ताक पर रखकर कार्यकारिणी गठन करने के लिए कार्यक्रम का आयोजन किया गया। शुक्रवार को कॉलेज के बाहर जो कुछ भी हुआ, एनएसयूआई उसकी जिम्मेवारी नहीं लेती है। यह संगठन के नाम को बदनाम करने का प्रयास मात्र है।

CONTACT : AJAY VERMA 9953753769 , 9716316892
EMAIL : faridabadrepoter@gmail.com

LEAVE A REPLY